Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2023 · 1 min read

दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ

दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठा करता है : कुमार विश्वास

यहाँ जिस इंसान के अंदर प्राण प्रतिष्ठा है वह पत्थर बनता जा रहा है।

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

1 Like · 351 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने दिल से
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
बना देता है बिगड़ी सब, इशारा उसका काफी है (मुक्तक)
बना देता है बिगड़ी सब, इशारा उसका काफी है (मुक्तक)
Ravi Prakash
मुझसे जुदा होने से पहले, लौटा दे मेरा प्यार वह मुझको
मुझसे जुदा होने से पहले, लौटा दे मेरा प्यार वह मुझको
gurudeenverma198
@ खोज @
@ खोज @
Prashant Tiwari
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
Tarun Singh Pawar
मेरी आरज़ू है ये
मेरी आरज़ू है ये
shabina. Naaz
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
एक दूसरे से बतियाएं
एक दूसरे से बतियाएं
surenderpal vaidya
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
देर आए दुरुस्त आए...
देर आए दुरुस्त आए...
Harminder Kaur
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
नारी नारायणी
नारी नारायणी
Sandeep Pande
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
कवि दीपक बवेजा
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Khahisho ke samandar me , gote lagati meri hasti.
Khahisho ke samandar me , gote lagati meri hasti.
Sakshi Tripathi
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ Rãthí
2587.पूर्णिका
2587.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"प्रेम कभी नफरत का समर्थक नहीं रहा है ll
पूर्वार्थ
"राष्ट्रपति डॉ. के.आर. नारायणन"
Dr. Kishan tandon kranti
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चालवाजी से तो अच्छा है
चालवाजी से तो अच्छा है
Satish Srijan
* दिल के दायरे मे तस्वीर बना दो तुम *
* दिल के दायरे मे तस्वीर बना दो तुम *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐प्रेम कौतुक-525💐
💐प्रेम कौतुक-525💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बो रही हूं खाब
बो रही हूं खाब
Surinder blackpen
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
Loading...