Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2023 · 1 min read

दुनिया बदल सकते थे जो

दुनिया को बदल सकते थे जो
दुनिया ही छोड़कर चले गए
उन्हें बुजदिल कहें या संगदिल
हमको झकझोर कर चले गए…
(१)
उनमें तो इतनी हिम्मत थी
जान की बाजी लगा सकें
बगावत का मशाल उठाकर
ज़ुल्मत में आग लगा सकें
लेकिन अपनी जिम्मेदारी से
अपना मुंह मोड़कर चले गए…
(२)
शायद इस व्यवस्था से
उन्हें कोई शिक़ायत थी
अपनों की हमदर्दी की
उनको थोड़ी ज़रूरत थी
इससे पहले हम कुछ समझें
अचानक दौड़कर चले गए…
(३)
एक बेहतर देश और
एक ख़ुबसूरत समाज का
जिसमें सबको सुविधा हो
शिक्षा, काम और इलाज का
ऐसे जाने कितने सपने
झटके में तोड़कर चले गए…
(४)
उनकी खुदकुशी से हुए
नुक़सान की भरपाई
मिलकर भी न कर पाएगी
अब तो सारी खुदाई
उम्र भर के एक दर्द से क्यों
हमें वो जोड़कर चले गए…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#संंघर्ष #हकमारी #फनकार #नौजवान
#इंकलाब #युवा #revolution #विद्रोह
#rebel #lyrics #lyricist #Youths
#Bollywood #RohitVemula
#Students #Suicide #आत्महत्या
#आत्मघात #खुदकुशी #दलित #छात्र
#आदिवासी #परिवर्तन #क्रांति #सच

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
VEDANTA PATEL
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
खुद पर यकीन,
खुद पर यकीन,
manjula chauhan
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
gurudeenverma198
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*नारी कब पीछे रही, नर से लेती होड़ (कुंडलिया)*
*नारी कब पीछे रही, नर से लेती होड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Omee Bhargava
मुक्तक
मुक्तक
कृष्णकांत गुर्जर
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
वक़्त  बहुत  कम  है.....
वक़्त बहुत कम है.....
shabina. Naaz
मोमबत्ती की रौशनी की तरह,
मोमबत्ती की रौशनी की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक संदेश बुनकरों के नाम
एक संदेश बुनकरों के नाम
Dr.Nisha Wadhwa
तेरा वादा.
तेरा वादा.
Heera S
#यूँ_सहेजें_धरोहर....
#यूँ_सहेजें_धरोहर....
*प्रणय प्रभात*
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
युग युवा
युग युवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
3224.*पूर्णिका*
3224.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
"आईना"
Dr. Kishan tandon kranti
एकादशी
एकादशी
Shashi kala vyas
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
पूर्वार्थ
सोच के दायरे
सोच के दायरे
Dr fauzia Naseem shad
Loading...