Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2023 · 1 min read

दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,

दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
खुद से भी कभी प्यार किया कीजिए।

भरी महफ़िल में तन्हा रहना अच्छा नहीं है,
चुनिंदा दोस्तों से भी पहचान किया कीजिए।

हम जैसे नादानों को नजरंदाज करने वालों,
अपनी गिरेबां में झांककर भी देखा कीजिए।

ज्यादा सयानों से पहचान भी ठीक नहीं है,
कुछ हम जैसे नादान भी रखा कीजिए।

~करन केसरा~

1 Like · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो रोज समय पर उगता है
जो रोज समय पर उगता है
Shweta Soni
संकल्प
संकल्प
Vedha Singh
अबोध प्रेम
अबोध प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कब गुज़रा वो लड़कपन,
कब गुज़रा वो लड़कपन,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नव प्रस्तारित सवैया : भनज सवैया
नव प्रस्तारित सवैया : भनज सवैया
Sushila joshi
जब पीड़ा से मन फटता है
जब पीड़ा से मन फटता है
पूर्वार्थ
एक सलाह, नेक सलाह
एक सलाह, नेक सलाह
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
Satyaveer vaishnav
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"इण्टरनेट की सीमाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
Johnny Ahmed 'क़ैस'
घाव करे गंभीर
घाव करे गंभीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
प्रभु की लीला प्रभु जाने, या जाने करतार l
प्रभु की लीला प्रभु जाने, या जाने करतार l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
" दीया सलाई की शमा"
Pushpraj Anant
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
KAJAL NAGAR
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
Suryakant Dwivedi
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
Kshma Urmila
रामराज्य
रामराज्य
कार्तिक नितिन शर्मा
✒️कलम की अभिलाषा✒️
✒️कलम की अभिलाषा✒️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
#यूँ_सहेजें_धरोहर....
#यूँ_सहेजें_धरोहर....
*Author प्रणय प्रभात*
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
Ram Krishan Rastogi
Loading...