Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

दुनियां की लिहाज़ में हर सपना टूट के बिखर जाता है

दुनियां की लिहाज़ में हर सपना टूट के बिखर जाता है
दुनियां को झुका दो फिर हर एक ख़्वाब निखर जाता है

✍️©’अशांत’ शेखर
13/02/2023

1 Like · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
मांँ ...….....एक सच है
मांँ ...….....एक सच है
Neeraj Agarwal
भतीजी (लाड़ो)
भतीजी (लाड़ो)
Kanchan Alok Malu
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*जो भी अच्छे काम करेगा, कलियुग में पछताएगा (हिंदी गजल)*
*जो भी अच्छे काम करेगा, कलियुग में पछताएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कभी कभी छोटी सी बात  हालात मुश्किल लगती है.....
कभी कभी छोटी सी बात हालात मुश्किल लगती है.....
Shashi kala vyas
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
Yogendra Chaturwedi
अनवरत....
अनवरत....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
बगल में कुर्सी और सामने चाय का प्याला
बगल में कुर्सी और सामने चाय का प्याला
VINOD CHAUHAN
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"वो जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमने अपना भरम
हमने अपना भरम
Dr fauzia Naseem shad
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
Vivek Mishra
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ruby kumari
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
Dr. Narendra Valmiki
■ एकाकी जीवन
■ एकाकी जीवन
*Author प्रणय प्रभात*
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come together.
Manisha Manjari
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
Neelam Sharma
प्रेम का वक़ात
प्रेम का वक़ात
भरत कुमार सोलंकी
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
बचपन
बचपन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...