Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम

1 प्रभात कालीन ब्रह्म सरोवर, अजब छटा निराली थी,
ठण्डक मन्दक शीतल पवन, चारो और हरियाली थी।
संत सज्जन करे मनन,करे स्नान हो आत्म संतुष्टि,
देख दृश्य करे कवि कविताई ,कर दृढता हो तृप्ति।।

2 सामने देखा मैने चितकबरे, बादलों को रुककर,
फिर किया महेश्वर को, प्रणाम मैंने झुककर ।
चल रहे थे पथिक ,चिकने पत्थरो पर से झूमकर ,
मैं भी चल रहा था, सभी के साथ थोडा़ -सा फुलकर।।

3 ब्रह्म सरोवर में बत्तखे पानी बहाव में,आनन्द ले रही थी,
देख एक दूसरे को शायद कुछ ,आप बीती कह रही थी।
विरह वेदना से पीड़ित दोबारा, मिलन पर जन्नत जी रही थी,
परअफसोस कुछ बत्तखे अब भी,विरह जीवन जी रही थी।।

4 मंदिरों की घण्टियां कर गूंज, उड़ा रही थी पंछी आकाश में।
रुदन कर्नन्दन कर एक पक्षी पड़ा था, कोई न था पास में,
कातर दृष्टि डाल रोगी कोठी देख रहे थे ,कुछ न था हाथ में।
हम भी अनमने ढंग से चल रहे थे क्योंकि लोग बैठे थे पास में।।

5 ताल पर पैरो से ताल मिलाकर, हम चले मिलन सार होकर,
कुछ पापी भी पाप मुक्त हो रहे थे ,सर में मुंह हाथ धोकर ।
व्यक्तियों के व्यक्ति बनाए जा रहे थे, आए थे कैमरा साथ लेकर, कवि व्यक्ति बनना चाहता था, पर प्रतिकूलता पीछे पड़ी थी हाथ धोकर।।

सतपाल चौहान।

Language: Hindi
Tag: Poem
2 Likes · 89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
There are few moments,
There are few moments,
Sakshi Tripathi
कोरे कागज़ पर
कोरे कागज़ पर
हिमांशु Kulshrestha
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
Aadarsh Dubey
क्या कहें कितना प्यार करते हैं
क्या कहें कितना प्यार करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पीठ के नीचे. . . .
पीठ के नीचे. . . .
sushil sarna
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
तेरे मेरे बीच में,
तेरे मेरे बीच में,
नेताम आर सी
आंधी
आंधी
Aman Sinha
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
Buddha Prakash
पथ प्रदर्शक पिता
पथ प्रदर्शक पिता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मानसिक तनाव
मानसिक तनाव
Sunil Maheshwari
आज़माइश
आज़माइश
Dr. Seema Varma
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
कहू किया आइ रूसल छी ,  कोनो कि बात भ गेल की ?
कहू किया आइ रूसल छी , कोनो कि बात भ गेल की ?
DrLakshman Jha Parimal
कड़वा सच
कड़वा सच
Sanjeev Kumar mishra
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
कवि रमेशराज
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
Dr MusafiR BaithA
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
Suryakant Dwivedi
घास को बिछौना बना कर तो देखो
घास को बिछौना बना कर तो देखो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
पूर्वार्थ
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
डॉक्टर रागिनी
Loading...