Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2023 · 1 min read

दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है

दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
“गुरु मिश्रा”

1 Like · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
"वसन्त"
Dr. Kishan tandon kranti
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरी आंखों का
मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण
पर्यावरण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शहर बसते गए,,,
शहर बसते गए,,,
पूर्वार्थ
चेहरा और वक्त
चेहरा और वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन  के  हर  चरण  में,
जीवन के हर चरण में,
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
Vishal babu (vishu)
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
विमला महरिया मौज
राम आए हैं भाई रे
राम आए हैं भाई रे
Harinarayan Tanha
* सखी  जरा बात  सुन  लो *
* सखी जरा बात सुन लो *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पायल
पायल
Dinesh Kumar Gangwar
मतदान
मतदान
Dr Archana Gupta
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
Who am I?
Who am I?
R. H. SRIDEVI
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
DrLakshman Jha Parimal
हाँ, मैं कवि हूँ
हाँ, मैं कवि हूँ
gurudeenverma198
मेरे पिताजी
मेरे पिताजी
Santosh kumar Miri
औरों के संग
औरों के संग
Punam Pande
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार हैं।
Neeraj Agarwal
■ आप आए, बहार आई ■
■ आप आए, बहार आई ■
*Author प्रणय प्रभात*
गीत
गीत
Shweta Soni
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
*भारतीय जीवन बीमा निगम : सरकारी दफ्तर का खट्टा-मीठा अनुभव*
*भारतीय जीवन बीमा निगम : सरकारी दफ्तर का खट्टा-मीठा अनुभव*
Ravi Prakash
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
Indu Singh
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
Loading...