Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

“दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है

“दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
यह तो जिंदगी है साहिब इसलिए यहां खुश रहना भी एक अनोखी कला है..!!”

43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
बेनाम रिश्ते .....
बेनाम रिश्ते .....
sushil sarna
उर्वशी की ‘मी टू’
उर्वशी की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ की दुआ
माँ की दुआ
Anil chobisa
दो शे'र ( अशआर)
दो शे'र ( अशआर)
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दर्द को उसके
दर्द को उसके
Dr fauzia Naseem shad
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
#धर्म
#धर्म
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-530💐
💐प्रेम कौतुक-530💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
bhandari lokesh
*सीधे-सादे चलिए साहिब (हिंदी गजल)*
*सीधे-सादे चलिए साहिब (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
Aarti sirsat
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत" - भाग- 01 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
हे ! अम्बुज राज (कविता)
हे ! अम्बुज राज (कविता)
Indu Singh
कामयाबी
कामयाबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटियां
बेटियां
Nanki Patre
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
2502.पूर्णिका
2502.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
कैसा हो रामराज्य
कैसा हो रामराज्य
Rajesh Tiwari
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
ruby kumari
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
कविता
कविता
Rambali Mishra
Loading...