Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

दुःख के संसार में

दुःख के इस संसार में,
वह मार्ग बताने वाले है,
प्रज्ञा शील करुणा से,
जीवन में मिलाने वाले है,
बुद्धम् शरणम् गच्छामि ,
वह तृष्णा को मिटाने वाले है।

दुःख के इस संसार में,
वह धम्म् बताने वाले है,
पंचशील के मार्ग से,
जीवन सफल बनाने वाले है,
धम्मम् शरणम् गच्छामि,
वह शांति को पाने वाले है ।

दुःख के इस संसार में,
वह संघ में आने वाले है,
अष्टांग मार्ग पथ सुझा कर,
अज्ञानता को मिटाने वाले है,
संघं शरणम् गच्छामि ,
वह निर्वाण को अपनाने वाले है ।

रचनाकार-
✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

8 Likes · 4 Comments · 646 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
गौतम बुद्ध के विचार --
गौतम बुद्ध के विचार --
Seema Garg
सजल...छंद शैलजा
सजल...छंद शैलजा
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
Phool gufran
कुण्डलियां छंद-विधान-विजय कुमार पाण्डेय 'प्यासा'
कुण्डलियां छंद-विधान-विजय कुमार पाण्डेय 'प्यासा'
Vijay kumar Pandey
एक ही दिन में पढ़ लोगे
एक ही दिन में पढ़ लोगे
हिमांशु Kulshrestha
हिंदी सबसे प्यारा है
हिंदी सबसे प्यारा है
शेख रहमत अली "बस्तवी"
गगरी छलकी नैन की,
गगरी छलकी नैन की,
sushil sarna
मां को शब्दों में बयां करना कहां तक हो पाएगा,
मां को शब्दों में बयां करना कहां तक हो पाएगा,
Preksha mehta
जिदंगी हर कदम एक नयी जंग है,
जिदंगी हर कदम एक नयी जंग है,
Sunil Maheshwari
*चाटुकार*
*चाटुकार*
Dushyant Kumar
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
*
*"गणतंत्र दिवस"*
Shashi kala vyas
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
नाचणिया स नाच रया, नचावै नटवर नाथ ।
नाचणिया स नाच रया, नचावै नटवर नाथ ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आया बाढ नग पहाड़ पे🌷✍️
आया बाढ नग पहाड़ पे🌷✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
Sanjay ' शून्य'
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
Neelofar Khan
2913.*पूर्णिका*
2913.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दो पाटन की चक्की
दो पाटन की चक्की
Harminder Kaur
जनता को तोडती नही है
जनता को तोडती नही है
Dr. Mulla Adam Ali
"एक उम्र के बाद"
Dr. Kishan tandon kranti
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सखि आया वसंत
सखि आया वसंत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मान तुम प्रतिमान तुम
मान तुम प्रतिमान तुम
Suryakant Dwivedi
Loading...