Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 2 min read

दीवाली

धन वैभव संपदा से आकंठ
भरपूर यह दीवाली जमती नही
मुझे अपने बचपन की दीवाली
है याद आ रही बरबस अभी।

अब की सोकाल्ड रंगोलियों में
वह कसक और अपील नहीं
जो हमारे बनाये नन्हे घरौंदों में
निरापद वे भले ही वक्ती ही सही।

वाह कितना सुंदर स्वाद व महक
होता था दलबेशन के लड्डुओं में
खसखस के लड्डू व मूंग या
उरद के देशी घी में बने मग्दलो में।

आज की इन नूतन मिठाइयों में
अब वह बात कहाँ होती है
उस जमाने की मिठाइयों हेतु
हाय कितनी प्रतीक्षा होती थी।

सप्ताह भर पूर्व ही हर घर
महक उठते थे इनकी सुगंधों से
बची खुची कसर पूरी होती थी
चीनी के शेर हाथी के खिलौने से।

माह पूर्व से ही घर घर की सफाई
रंग रोगन सबके लिए मस्ट होती थी
हम भी मजदूरों संग दो चार कूंची
चलाते, एक माहौल बनी होती थी।

उस समय के चिटपुटिये, फुलझड़ी
मताबी,अनार, बीड़ी बम कहाँ पाते है
आज के तमाम शोर करते पटाखों को
वे बाखूबी तबियत से बस मात देते है।

शाम को अम्मा सजा धजा कर हमें
दिये की थाली संग मंदिर भेजती थी
हर मंदिर में चढ़ाने को थाल में दिया
संग बेसन के चार लड्डू रख देती थी।

हमारा प्रयास बस किसी तरह दो
लड्डू में ही सब देवता प्रसन्न हो जाये
दो किसी भी तरह बचा कर अंतिम
में पूजा के बाद हमारे काम आ जाये।

आज सोचता हूँ जब उन प्रहसन
व नदानियत से भरे रोचक प्रसंगों को
निर्मेष मन बरबस ही कर देता है
एक बार फिर उस बचपन में लौटने को।

67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
पूर्वार्थ
नींव की ईंट
नींव की ईंट
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
डोरी बाँधे  प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
डोरी बाँधे प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
Mahendra Narayan
व्याकुल तू प्रिये
व्याकुल तू प्रिये
Dr.Pratibha Prakash
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
Ranjeet kumar patre
हमारे रक्षक
हमारे रक्षक
करन ''केसरा''
इश्क में आजाद कर दिया
इश्क में आजाद कर दिया
Dr. Mulla Adam Ali
"मित्र से वार्ता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हकीकत
हकीकत
dr rajmati Surana
आवो पधारो घर मेरे गणपति
आवो पधारो घर मेरे गणपति
gurudeenverma198
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
काश वो होते मेरे अंगना में
काश वो होते मेरे अंगना में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ लोग जाहिर नहीं करते
कुछ लोग जाहिर नहीं करते
शेखर सिंह
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
Keshav kishor Kumar
देश- विरोधी तत्व
देश- विरोधी तत्व
लक्ष्मी सिंह
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
Oh life ,do you take account!
Oh life ,do you take account!
Bidyadhar Mantry
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
Dr MusafiR BaithA
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
नानी का घर (बाल कविता)
नानी का घर (बाल कविता)
Ravi Prakash
मुझमें एक जन सेवक है,
मुझमें एक जन सेवक है,
Punam Pande
"रंग भर जाऊँ"
Dr. Kishan tandon kranti
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...