Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

दीवानी कान्हा की

दीवानी कान्हा की
**************

मैं हुई बावरी कान्हा के दरस की
मैं हुई दीवानी कान्हा की बंसी की
मैं हुई पागल कान्हा के महारास की
मैं हुई बावली कान्हा की अदाओं की

क्यों छोड़ चले मुझे जमुना तट पर यूँ
क्यों विरह की आग में तपाते कान्हा
क्यों नैनों में आकर बस नहीं जाते हो
क्यों हर क्षण क्षण मुझे तुम रुलाते हो

मेरा हाथ थाम लो तुम कान्हा अब तो
मेरे जीवन की पतवार सम्भालो अब तो
डूबती नैया का तुम ही सहारा हो मोहन
भवसागर पार लगा तो अब कृष्ण कन्हाई

कुंज गलियों में तुम्हें खोजती फिरूँ मैं
मनमोहक छवि को एकटक निहारूं मैं
सूने सूने पनघट खग कलरव भी न करते
गूँगी बहरी सी विरह में पागल हुई कान्हा

सूनी पड़ी कदम्ब की डाली दिखती तन्हा
गोपियाँ रुदन कर रहे कहाँ छोड़ चले कान्हा
अंतर्मन में दरस की आस जगा चले गए मोहन
हे गिरधारी यशोदानंदन मैं बस तेरी बाट निहारूँ

-डॉ. राजेश कुमार शर्मा पुरोहित
भवानीमंडी

1 Like · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
रंगीन हुए जा रहे हैं
रंगीन हुए जा रहे हैं
हिमांशु Kulshrestha
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
कवि रमेशराज
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
धुंध इतनी की खुद के
धुंध इतनी की खुद के
Atul "Krishn"
सर्जिकल स्ट्राइक
सर्जिकल स्ट्राइक
लक्ष्मी सिंह
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
कालजयी रचनाकार
कालजयी रचनाकार
Shekhar Chandra Mitra
मीलों का सफर तय किया है हमने
मीलों का सफर तय किया है हमने
कवि दीपक बवेजा
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
Surinder blackpen
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
2311.
2311.
Dr.Khedu Bharti
मुझे दूसरे के अखाड़े में
मुझे दूसरे के अखाड़े में
*Author प्रणय प्रभात*
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
हाँ, तैयार हूँ मैं
हाँ, तैयार हूँ मैं
gurudeenverma198
फागुन में.....
फागुन में.....
Awadhesh Kumar Singh
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
पूर्वार्थ
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
Aarti sirsat
......मंजिल का रास्ता....
......मंजिल का रास्ता....
Naushaba Suriya
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
"निगाहें"
Dr. Kishan tandon kranti
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
कविता कि प्रेम
कविता कि प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...