Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

दीप माटी का

बुझने से पहले, अंधेरों
तुमसे जी भर मै लड़ूंगा।
दीप माटी का बनूंगा।
दीप माटी का बनूंगा।

पाँव के छाले हों चाहे,
या झड़ी हो नीर की।
तोड़ न पाएंगी कभी,
तीव्रता भी पीर की।
जितना ही भीगेंगी आँखें,
गीत उतने ही लिखूंगा।
दीप माटी का बनूंगा।

सूर्य की किरणों के आगे,
मै भले टिक पाऊँ न।
जगमगाते नभ के आँचल,
में भी जगह पाऊँ न।
चंद्र बन कर के अमा की,
रात में फिर भी दिखूंगा।
दीप माटी का बनूंगा।

आस भरे फूल सुरभित,
स्नेह से मै सींच कर।
काँटों के भी बीच से,
सारी निराशा खींच कर।
सूखी हुई डाली पे नन्ही,
कोंपलों सा मै खिलूंगा
दीप माटी का बनूंगा।

डर नही कोई मुझे है,
हूँ अकेला भी अगर।
राह हो सकती कठिन है,
मै कठिनतम हूँ मगर।
माटी से जन्मा आखिर,
माटी में ही जा मिलूंगा।
दीप माटी का बनूंगा।

Language: Hindi
1 Like · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
■ तो समझ लेना-
■ तो समझ लेना-
*Author प्रणय प्रभात*
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
মানুষ হয়ে যাও !
মানুষ হয়ে যাও !
Ahtesham Ahmad
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
Ravi Prakash
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
Krishna Manshi
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
Raju Gajbhiye
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रेणुका और जमदग्नि घर,
रेणुका और जमदग्नि घर,
Satish Srijan
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
Dr Archana Gupta
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
मनुष्य का उद्देश्य केवल मृत्यु होती हैं
शक्ति राव मणि
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
मां कृपा दृष्टि कर दे
मां कृपा दृष्टि कर दे
Seema gupta,Alwar
नयी नवेली
नयी नवेली
Ritu Asooja
उफ़ ये अदा
उफ़ ये अदा
Surinder blackpen
*पूर्णिका*
*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पर्वत दे जाते हैं
पर्वत दे जाते हैं
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
बदलते वख़्त के मिज़ाज़
Atul "Krishn"
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
Manisha Manjari
गीत
गीत
सत्य कुमार प्रेमी
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
आफत की बारिश
आफत की बारिश
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हिंदू सनातन धर्म
हिंदू सनातन धर्म
विजय कुमार अग्रवाल
एक तूही ममतामई
एक तूही ममतामई
Basant Bhagawan Roy
Loading...