Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2018 · 1 min read

–दिशाहीन मानव–

गीतिका छंद–परिभाषा एवं कविता
——————————————–
यह एक सममात्रिक छंद है;इसमें चार चरण होते हैं;प्रत्येक चरण में 26-26 मात्राएँ होती हैं;यति 14-12 या12-14 पर होती है।
प्रत्येक चरण की तीसरी, दसवीं, सत्रहवीं एवं चौबीसवीं मात्रा लघु होने पर छंद सरस हो जाता है।

मात्राएँ–
2122-2122-2122-212
ला-लला-ला-ला-लला-ला-ला-लला-ला-ला-लला।

गीतिका छंद की कविता–

दिशाहीन मानव–
———————-

आज चारों ओर देखूँ,यम पहरा लगा हुआ।
काँप रहा है मनुज यहाँ,डर गहरा जगा हुआ।
आदमी को तो डराता,देख आदमी रहता।
कह बड़ा छोटा जताए,नेक स्वयं को कहता।

शोषण हरकोई करता जी,अगर मौका है मिले।
जो नहीं करें कम मिलते,हों जग चमन-सा खिले।
सोच समझ सकें न मानव,प्रतिपल बदलते यहाँ।
समझ न आती मनसा क्या,मंज़िल क्या चले कहाँ।

जीवन दिशाहीन कोई,सफल होता है नहीं।
सम कटी पतंग समझिए,ख़बर न जा गिरे कहीं।
सूक्ष्म-स्थूल ज्ञान बिन सुनो,ज्ञान अधूरा समझो।
नीव कच्ची उस मकां की,दमक कँगूरा समझो।

जीवन माया भरा हो,पर सकून मिले नहीं।
बिन बहार के समझ ज़रा,चमन कभी खिले नहीं।
जार चोर शोषक ना बन,केवल बन मानव ही।
शौक श्रम सबकर नियम से,बनकर रह मानव ही।

मन खुद का खुश करने को,और का न दुखा कभी।
घर खुद का ही भरने को,और का न मिटा कभी।
सीख प्रकृति से कुछ ले तू,प्यार से सब बाँटती।
पर बनाती भी यही है,आपदा से डाँटती।

कवि–राधेयश्याम बंगालिया “प्रीतम”
——————————————–

Language: Hindi
393 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
VEDANTA PATEL
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
आवारगी
आवारगी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
किताब
किताब
Neeraj Agarwal
पता नहीं किसने
पता नहीं किसने
Anil Mishra Prahari
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
Trishika S Dhara
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
sudhir kumar
हिस्सा,,,,
हिस्सा,,,,
Happy sunshine Soni
राख के ढेर की गर्मी
राख के ढेर की गर्मी
Atul "Krishn"
लगा समंदर में डुबकी मनोयोग से
लगा समंदर में डुबकी मनोयोग से
Anamika Tiwari 'annpurna '
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
पंकज कुमार कर्ण
नव वर्ष पर सबने लिखा
नव वर्ष पर सबने लिखा
Harminder Kaur
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
Taj Mohammad
मंज़िलों से गुमराह भी कर देते हैं कुछ लोग.!
मंज़िलों से गुमराह भी कर देते हैं कुछ लोग.!
शेखर सिंह
किसी को इतना भी प्यार मत करो की उसके बिना जीना मुश्किल हो जा
किसी को इतना भी प्यार मत करो की उसके बिना जीना मुश्किल हो जा
रुचि शर्मा
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
तुमको वो पा लेगा इतनी आसानी से
Keshav kishor Kumar
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मारे गए सब
मारे गए सब "माफिया" थे।
*प्रणय प्रभात*
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
Loading...