Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

दिव्य-दोहे

मानव तू पगला गया , डारे प्रभु में प्राण ।
पत्थर भी क्या बोलि हैं,जनता चाहि प्रमाण।।

,——–24-01-2024
——————————————————-
भारत बहुत महान है, जड़ में डारै प्रान ।
जीवित कौ भक्षण करै,हनकि निकारै प्रान।।

——— 27/01/2024
—————————————————-
पचपन की चुस्की मिलै,खूब फलो व्यापार ।
जीते जी दर्शन करौ , स्वर्ग जहाँ साकार।।

,,,,,, 27/01/2924
—————————————————–
नर्क मिलै बिन खर्च के,स्वर्ग कीमती चीज ।
दर्शन भर से बो दिये , स्वर्ग प्राप्ति के बीज ।।

———- 27 /01/2924
—————————————————–
प्राण-प्रतिष्ठा वो विधा, बोलन लागै शैल ।
सव कुछ अर्पन जौ भया,रूपांतरित हो मैल।।

—————— 27/01/2024
——————————————————-
अहमक नहीं तो और क्या ,मानव तेरा दंभ ।
ना तेरे बश अंत है , ना बश में आरम्भ।।

—-‐–‐————- 27/01/2024
——————————————————
सृष्टी के कण-कण बसै, न्यूट्राॅन औ प्रोटाॅन ।
किंतु सन्तुलित ही करे ,नेता बन इलैक्ट्राॅन ।।

——————- 27/02024
—————————————————-
मौलिक-चिंतन/स्वरूप दिनकर
आखरा

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रामचरितमानस
रामचरितमानस
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
नवीन और अनुभवी, एकजुट होकर,MPPSC की राह, मिलकर पार करते हैं।
नवीन और अनुभवी, एकजुट होकर,MPPSC की राह, मिलकर पार करते हैं।
पूर्वार्थ
मुझे लगता था
मुझे लगता था
ruby kumari
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
भुला ना सका
भुला ना सका
Dr. Mulla Adam Ali
सफलता और सुख  का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
सफलता और सुख का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
Leena Anand
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
सुनील कुमार
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
एक तुम्हारे होने से...!!
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
माँ की चाह
माँ की चाह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
Shweta Soni
भ्रम
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
2859.*पूर्णिका*
2859.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
खूब ठहाके लगा के बन्दे
खूब ठहाके लगा के बन्दे
Akash Yadav
*
*"प्रकृति की व्यथा"*
Shashi kala vyas
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
DrLakshman Jha Parimal
भौतिक युग की सम्पदा,
भौतिक युग की सम्पदा,
sushil sarna
उर्वशी की ‘मी टू’
उर्वशी की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
खता मंजूर नहीं ।
खता मंजूर नहीं ।
Buddha Prakash
Loading...