Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है

शाम हुई अंधेरा पसरने दीजिए
थके राहगीरों को ठहरने दीजिए
फिर सुनहरा सूरज तो चमकेगा ही
रातरानी को ज़रा संवरने दीजिए

हमें देश की शान रखना आता है
हथेली पर जान रखना आता है तो
मजहब के नाम पर न डराइए हमें
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है

जीतने का हौसला व हारने का जिगर हो
दिखाएं दरियादिली अपने चाहें दीगर हो
हम जानते हैं तु जबाब तलब करेगा इक दिन
ईमान नहीं छोड़ते चाहें रंजो फिकर हो

Language: Hindi
1 Like · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन में प्राकृतिक ही  जिंदगी हैं।
जीवन में प्राकृतिक ही जिंदगी हैं।
Neeraj Agarwal
"पड़ाव"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता, इन्टरनेट युग में
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
चलो इश्क़ जो हो गया है मुझे,
चलो इश्क़ जो हो गया है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
ममता का सागर
ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
विकटता और मित्रता
विकटता और मित्रता
Astuti Kumari
गहन शोध से पता चला है कि
गहन शोध से पता चला है कि
*प्रणय प्रभात*
समझौता
समझौता
Sangeeta Beniwal
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
"" *भगवान* ""
सुनीलानंद महंत
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
Ram Krishan Rastogi
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
Tarun Garg
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
*दर्शन शुल्क*
*दर्शन शुल्क*
Dhirendra Singh
सब अनहद है
सब अनहद है
Satish Srijan
बहुत खुश था
बहुत खुश था
VINOD CHAUHAN
समझदारी शांति से झलकती हैं, और बेवकूफ़ी अशांति से !!
समझदारी शांति से झलकती हैं, और बेवकूफ़ी अशांति से !!
Lokesh Sharma
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
Rajesh Kumar Arjun
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
"क्या लिखूं क्या लिखूं"
Yogendra Chaturwedi
वफा माँगी थी
वफा माँगी थी
Swami Ganganiya
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*Love filters down the soul*
*Love filters down the soul*
Poonam Matia
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
Loading...