Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2016 · 1 min read

दिल में दर्द का एहसास क्यों हो रहा है/मंदीप

दिल में दर्द का एहसास क्यों हों रहा है/मंदीप

दिल में दर्द का एहसास क्यों हो रहा है,
मन में कोई संका का बीज बो रहा है।

मिले थे जिस से अजनबी की तरह,
आज उस से ही प्यार हो रहा है।

सुना रहा है दर्द दिल का ,
कोई दिल का दर्द छुपा रहा है।

जगा कर काली रातो में,
कोई आराम से सो रहा है।

दिले नादान गलती तो कर दी,
आज दिल उस गलती पर रो रहा है।

दर्द दिया जिस दिल ने,
वो ही मेरे दिल को मो रहा है।

“मंदीप” तुम ने ऐसी क्या खता की,
जो आज तेरे साथ ऐसा हो रहा है।

मंदीपसाई

379 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"शिक्षक"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे जीवन के इस पथ को,
मेरे जीवन के इस पथ को,
Anamika Singh
बांते
बांते
Punam Pande
*बुढ़ापे में जवानी हो 【मुक्तक】*
*बुढ़ापे में जवानी हो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
विजय कुमार नामदेव
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
मेरी कलम......
मेरी कलम......
Naushaba Suriya
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गौमाता की व्यथा
गौमाता की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
बड़ा ही अजीब है
बड़ा ही अजीब है
Atul "Krishn"
हैप्पी होली
हैप्पी होली
Satish Srijan
2670.*पूर्णिका*
2670.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सावन में शिव गुणगान
सावन में शिव गुणगान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बापू गाँधी
बापू गाँधी
Kavita Chouhan
राम वनवास
राम वनवास
Dhirendra Panchal
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
💐अज्ञात के प्रति-140💐
💐अज्ञात के प्रति-140💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
"उम्र जब अल्हड़ थी तब
*Author प्रणय प्रभात*
राष्ट्रीय गणित दिवस
राष्ट्रीय गणित दिवस
Tushar Jagawat
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रोज मरते हैं
रोज मरते हैं
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मैं किसान हूँ
मैं किसान हूँ
Dr.S.P. Gautam
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बच कर रहता था मैं निगाहों से
बच कर रहता था मैं निगाहों से
Shakil Alam
कई शामें शामिल होकर लूटी हैं मेरी दुनियां /लवकुश यादव
कई शामें शामिल होकर लूटी हैं मेरी दुनियां /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
Loading...