Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना

दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना।
जी नहीं सकती मै अब तुम्हारे बिना।।

जब से पड़ी दिल पे तुम्हारी परछाई।
बजने लगी दिल में तुम्हारी शहनाई।।

आ जाओ सनम अब बारात तुम लेके।
खड़ी हूं द्वार पर फूलो का हार मै लेके।।

दूर रहकर भी बहुत पास हो तुम मेरे।
आकर गले लग जाओ अब तुम मेरे।।

तड़फाओ न और अधिक तुम मुझको।
कुछ तो दिलासा दो आकर तुम मुझको।।

जी नहीं सकती मै अब तुम्हारे बिना।
रह नही सकती मै अब तुम्हारे बिना।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
लौट आयी स्वीटी
लौट आयी स्वीटी
Kanchan Khanna
!! गुलशन के गुल !!
!! गुलशन के गुल !!
Chunnu Lal Gupta
गुरु महिमा
गुरु महिमा
विजय कुमार अग्रवाल
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
रुपेश कुमार
"एक विचार को प्रचार-प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है
शेखर सिंह
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
बेबसी (शक्ति छन्द)
बेबसी (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
Anis Shah
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*टमाटर (बाल कविता)*
*टमाटर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Paras Nath Jha
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
"प्यार"
Dr. Kishan tandon kranti
शब्द✍️ नहीं हैं अनकहे😷
शब्द✍️ नहीं हैं अनकहे😷
डॉ० रोहित कौशिक
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
दोष उनका कहां जो पढ़े कुछ नहीं,
दोष उनका कहां जो पढ़े कुछ नहीं,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
Mamta Singh Devaa
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
Shweta Soni
आश भरी ऑखें
आश भरी ऑखें
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
विषय -घर
विषय -घर
rekha mohan
आज वही दिन आया है
आज वही दिन आया है
डिजेन्द्र कुर्रे
महसूस खुद को
महसूस खुद को
Dr fauzia Naseem shad
Loading...