Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 16, 2021 · 1 min read

खिला प्रसून।

ज्ञान दीप जलता रहे,मन को मिले सुकून।
आनंदित हो आतमा,औ दिल खिला प्रसून। ।
,,,,, ,, ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

पं बृजेश कुमार नायक
जागा हिंदुस्तान चाहिए, क्रौंच सु ऋषि आलोक एवं पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएँ कृतियों के प्रणेता।

3 Likes · 1 Comment · 238 Views
You may also like:
When I missed you.
Taj Mohammad
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
बाबू जी
Anoop Sonsi
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
✍️मेरी कलम...✍️
"अशांत" शेखर
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम
Saraswati Bajpai
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मनोमंथन
Dr. Alpa H. Amin
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
चिड़िया रानी
Buddha Prakash
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
ना पूंछ तू हिम्मत।
Taj Mohammad
गुनहगार बन गए है।
Taj Mohammad
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरा वजूद
Anamika Singh
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
"अशांत" शेखर
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...