Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

दिल की गुज़ारिश

दिल ने मेरे ये गुज़ारिश की है
रहने की इसमें तुझे इजाज़त दी है
मान जाओ मेरे दिल की ये अर्ज़
तुम्हारे लिए मैंने ज़माने की खिलाफत की है

हो जाओगे तुम जिस दिन मेरे
समझूंगा रब ने मेरी दुआ कबूल की है
कबतक सहनी पड़ेगी ये बेरुखी तेरी
ये तो बता दो जानेमन मैंने क्या भूल की है

हो बेखबर हालात से मेरे दिल की
मैंने तो हरपल तुझसे मोहब्बत की है
जीना चाहता हूं अब ज़िंदगी साथ में तेरे
जो भी ज़िंदगी जी है मैंने बस तेरी याद में जी है

देना चाहता हूं तुझे जीवन की हर खुशी
तेरे चेहरे पर हमेशा हंसी देखने की मुराद की है
अब तो आ जाओ न इस दिल में
तुझसे एक बार फिर फ़रियाद की है

है ये ज़िंदगी बस चार दिनों की
तू आज भी किस सोच में पड़ी है
जाने कब आ जाए बुलावा उसका
तुझे पाने के लिए मैंने ज़माने से लड़ाई लड़ी है

देख ले कभी तो इस दिल में
तेरे प्यार की शमा इसमें जली है
है नहीं कोई चाहत अब और इसकी
जबसे तुझे पाने की चाहत पली है।

6 Likes · 2 Comments · 1555 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
दिल की बात बताऊँ कैसे
दिल की बात बताऊँ कैसे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
Dr. Man Mohan Krishna
- मर चुकी इंसानियत -
- मर चुकी इंसानियत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
Paras Nath Jha
¡¡¡●टीस●¡¡¡
¡¡¡●टीस●¡¡¡
Dr Manju Saini
जल से सीखें
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
2410.पूर्णिका
2410.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
छंद -रामभद्र छंद
छंद -रामभद्र छंद
Sushila joshi
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
ग़रीब
ग़रीब
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
Anil Mishra Prahari
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
पूर्वार्थ
दोहे. . . . जीवन
दोहे. . . . जीवन
sushil sarna
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
■ शर्म भी कर लो।
■ शर्म भी कर लो।
*Author प्रणय प्रभात*
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गांधी से परिचर्चा
गांधी से परिचर्चा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
अंसार एटवी
रक्तदान पर कुंडलिया
रक्तदान पर कुंडलिया
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*हिंदी*
*हिंदी*
Dr. Priya Gupta
मेरा भारत
मेरा भारत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
श्रम साधक को विश्राम नहीं
श्रम साधक को विश्राम नहीं
संजय कुमार संजू
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
Loading...