Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

दिल का हर अरमां।

दिल का हर अरमां तोड़कर तुम गए हो।
हमको तन्हा बड़ा छोड़कर तुम गए हो।।

फिरभी हम बड़ा अदब करते है तुम्हारा।
खुद को जो बेवफा बोलकर तुम गए हो।।

जिंदगी की हर खुशी बेरंग सी हो गई है।
गमों में इतना ज्यादा घोलकर तुम गए हो।।

तमाम उम्र काट दी हमने तसव्वुर में तुम्हारे।
जीते है हम जो किस्सा छोड़कर तुम गए हो।।

तुम फिर तोड़ोगे अपना वादा न आओगे।
हर बार ही झूठ ऐसा बोलकर तुम गए हो।।

तुमसे ये न थी उम्मीद यूं बदनाम करोगे।
मुहब्बत की हर बात खोलकर तुम गए हो।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
फूल तो फूल होते हैं
फूल तो फूल होते हैं
Neeraj Agarwal
#देसी ग़ज़ल
#देसी ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
प्रियतमा
प्रियतमा
Paras Nath Jha
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
डॉ० रोहित कौशिक
राम का न्याय
राम का न्याय
Shashi Mahajan
3239.*पूर्णिका*
3239.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे जीवन में सबसे
मेरे जीवन में सबसे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
भ्रम अच्छा है
भ्रम अच्छा है
Vandna Thakur
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
किसी दर्दमंद के घाव पर
किसी दर्दमंद के घाव पर
Satish Srijan
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
Vishal babu (vishu)
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय*
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय*
Ravi Prakash
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
इश्क खुदा का घर
इश्क खुदा का घर
Surinder blackpen
मोहन कृष्ण मुरारी
मोहन कृष्ण मुरारी
Mamta Rani
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
*फ़र्ज*
*फ़र्ज*
Harminder Kaur
जग में उदाहरण
जग में उदाहरण
Dr fauzia Naseem shad
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
तसव्वुर
तसव्वुर
Shyam Sundar Subramanian
जीवन
जीवन
नन्दलाल सुथार "राही"
मेरा दुश्मन
मेरा दुश्मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
छंद मुक्त कविता : बचपन
छंद मुक्त कविता : बचपन
Sushila joshi
Loading...