Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

दिल ए तकलीफ़

हम समझते थे खैर ख़्वाह जिसको ।
दिल- ए- तक़लीफ़ वो नहीं समझा ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अब छोड़ दिया है हमने तो
अब छोड़ दिया है हमने तो
gurudeenverma198
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*पाओगे श्रीकृष्ण को, मोरपंख के साथ (कुंडलिया)*
*पाओगे श्रीकृष्ण को, मोरपंख के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुझको मेरा हिसाब देना है
मुझको मेरा हिसाब देना है
Dr fauzia Naseem shad
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
कृष्ण मलिक अम्बाला
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
sushil yadav
ईमानदार  बनना
ईमानदार बनना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इल्तिजा
इल्तिजा
Bodhisatva kastooriya
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
Shashi kala vyas
प्रेम कविता ||•
प्रेम कविता ||•
पूर्वार्थ
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
किसी का सब्र मत आजमाओ,
किसी का सब्र मत आजमाओ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"मौका मिले तो"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
प्रशंसा नहीं करते ना देते टिप्पणी जो ,
प्रशंसा नहीं करते ना देते टिप्पणी जो ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
जय लगन कुमार हैप्पी
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
#जय_सियाराम
#जय_सियाराम
*प्रणय प्रभात*
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नाकामयाबी
नाकामयाबी
भरत कुमार सोलंकी
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
Loading...