Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2017 · 1 min read

दिल्ली में जानलेवा प्रदुषण का कहर।

????
दिल्ली में जानलेवा प्रदूषण का कहर।
धीरे – धीरे जिस्म में फैलता जहर।

हवा में भरा रोगजनक, एलर्जी कारक।
भ्यानक धुन्ध ,जहरीली गैस की चादर।

है इसका असर हर जीव-जन्तु पर।
मानव,पशु-पक्षीऔर पेड़-पौधों पर।

खुली हवा में साँस लेना ही नहीं,
आँखें खोलना भी हो गया है दूभर।

बच्चों,बड़ों में दर्द दिखता है उभरकर।
घर हो या बाहर जहरीली गैस का असर।

गंदा खाना,गंदा पानी,दुषितहवा का स्तर।
लोगों का यहाँ तो जीना हुआ है दूभर।

समस्या खड़ी है सामने एक सवाल बनकर।
क्या जीना पड़ेगा सभी को मास्क पहनकर?

किस ओर जा रहा है हमारा जीवन स्तर।
राजधानी बना हुआ है एक गैस का चैम्बर।

ऐसे हाल में भी समस्या को मुद्दा बनाकर।
राजनीतिज्ञ लगें हैं अपनी रोटी सेकनें पर।

करो निदान इस समस्या का मिलजुल कर।
मत छोड़ो इस समस्या को सिर्फ सरकार पर।

प्रकृति से मत खेलो,हम निर्भर है इसपर।
नहीं तो बरसेगा हमपर,प्रकृति कहर बनकर।
????—लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
351 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
" पलास "
Pushpraj Anant
हिंदू सनातन धर्म
हिंदू सनातन धर्म
विजय कुमार अग्रवाल
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
लिव-इन रिलेशनशिप
लिव-इन रिलेशनशिप
लक्ष्मी सिंह
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गीत-14-15
गीत-14-15
Dr. Sunita Singh
असली जीत
असली जीत
पूर्वार्थ
माँ गौरी रूपेण संस्थिता
माँ गौरी रूपेण संस्थिता
Pratibha Pandey
यूं जरूरतें कभी माँ को समझाने की नहीं होती,
यूं जरूरतें कभी माँ को समझाने की नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"अभ्यास"
Dr. Kishan tandon kranti
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
लोग गर्व से कहते हैं मै मर्द का बच्चा हूँ
लोग गर्व से कहते हैं मै मर्द का बच्चा हूँ
शेखर सिंह
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
Sanjay ' शून्य'
मैं तेरे गले का हार बनना चाहता हूं
मैं तेरे गले का हार बनना चाहता हूं
Keshav kishor Kumar
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
Manisha Manjari
शाकाहार स्वस्थ आहार
शाकाहार स्वस्थ आहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"चलो जी लें आज"
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
"तर्के-राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोस्ती.......
दोस्ती.......
Harminder Kaur
3301.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3301.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
ruby kumari
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
मुस्कुराते हुए सब बता दो।
मुस्कुराते हुए सब बता दो।
surenderpal vaidya
Loading...