Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

दिये को रोशन बनाने में रात लग गई

दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
अंधेरों को हटाने में बारात लग गई !

अधूरे ख्वाब जो टूटे शीशे की तरह…
उसी को बनाने में जिंदगी लग गई!!

✍️Kavi Deepak saral

1 Like · 180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम से ना हो पायेगा
तुम से ना हो पायेगा
Gaurav Sharma
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
जीवन दर्शन
जीवन दर्शन
Prakash Chandra
वर्षा ऋतु के बाद
वर्षा ऋतु के बाद
लक्ष्मी सिंह
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
Neelam Sharma
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
Harminder Kaur
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
तोल मोल के बोलो वचन ,
तोल मोल के बोलो वचन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मत रो मां
मत रो मां
Shekhar Chandra Mitra
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार और भाव-1
विचार और भाव-1
कवि रमेशराज
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
_सुलेखा.
खाने को पैसे नहीं,
खाने को पैसे नहीं,
Kanchan Khanna
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#प्रसंगवश...
#प्रसंगवश...
*Author प्रणय प्रभात*
*नुक्कड़ की चाय*
*नुक्कड़ की चाय*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2458.पूर्णिका
2458.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* रेत समंदर के...! *
* रेत समंदर के...! *
VEDANTA PATEL
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...