Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

दिये को रोशननाने में रात लग गई

दिये को रोशननाने में रात लग गई
अंधेरों को हटाने में बारात लग गई
मैं टूटे हुए ख्वाब पूरे करके खुश हूँ
उसी को बनाने में जिंदगी लग गई १

ले गए जिसको उजाले की भीड़ मे
उसी सफ मे उसकी आँख लग गई
वो किसी और पांव का घुंघरू बना
कोई और ओढ़नी मेरे हाथ लग गई २

वह रात रोशन बना ली गई
जिसमें कई बरसात लग गई
दो दिलों को न एक होने दिया
और पीछे हमारे जात लग गई ३

इज़हार ए इश्क ना कर पाया वो
उसकी डायरी मेरे हाथ लग गई
बातों के जख्म ना भरेंगे कभी
ऐसी दिल पर कोई बात लग गई ४

मोहब्बत को न ठुकराइए कभी
गैरों को गले ना लगाइए कभी
रास्ते में छोड़कर चले गए तुम
हमारे दिल पर ऐसी घात लग गई ५

✍️कवि दीपक सरल

1 Like · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रमेशराज के समसामयिक गीत
रमेशराज के समसामयिक गीत
कवि रमेशराज
31/05/2024
31/05/2024
Satyaveer vaishnav
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
डॉ.सीमा अग्रवाल
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
करवा चौथ
करवा चौथ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मौत से बढकर अगर कुछ है तो वह जिलद भरी जिंदगी है ll
मौत से बढकर अगर कुछ है तो वह जिलद भरी जिंदगी है ll
Ranjeet kumar patre
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
*Deep Sleep*
*Deep Sleep*
Poonam Matia
रार बढ़े तकरार हो,
रार बढ़े तकरार हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल की बगिया में मेरे फूल नहीं खिल पाए।
दिल की बगिया में मेरे फूल नहीं खिल पाए।
*प्रणय प्रभात*
बोल दे जो बोलना है
बोल दे जो बोलना है
Monika Arora
मन
मन
Sûrëkhâ
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
Mahender Singh
कॉटेज हाउस
कॉटेज हाउस
Otteri Selvakumar
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
ख्वाबों के रेल में
ख्वाबों के रेल में
Ritu Verma
* सोमनाथ के नव-निर्माता ! तुमको कोटि प्रणाम है 【गीत】*
* सोमनाथ के नव-निर्माता ! तुमको कोटि प्रणाम है 【गीत】*
Ravi Prakash
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
बुद्ध पुर्णिमा
बुद्ध पुर्णिमा
Satish Srijan
जो गुजर गया
जो गुजर गया
ruby kumari
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
Phool gufran
अपनी-अपनी विवशता
अपनी-अपनी विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"वो पूछता है"
Dr. Kishan tandon kranti
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
Loading...