Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2024 · 1 min read

दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं

दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं
चाहे जितना ही व्यस्त हो जाएँ, बस उनकी याद है जो मिटती नहीं
आदत से ज्यादा ज़रूरत बन गये है वोह हमारे जीवन की
हो भी जाए हम खुद से जुदा पर, वोह हमसाये की आस हे मेरी,
जो कभी मेरे जीवन से हटती नहीं

तन्हाँ रहना ज़रूरी हो गया अब उनके जाने के बाद
झगमगाती भीड़ में अकेला खो गया उनके जाने के बाद
अब नहीं जचता मुझे खिली हुई धुप सा जीवन
दिकुप्रेम एहसासों की छाँव में सो गया उनके जाने के बाद

जो कभी उछला करते थे दिल के अरमान उन्हें देखने के लिए
आज उनके आने का इंतज़ार करते हुए मेरी आखें थकती नहीं
हो भी जाए हम खुद से जुदा पर, वोह हमसाये की आस हे मेरी,
जो कभी मेरे जीवन से हटती नहीं

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
Ravi Prakash
* खूब खिलती है *
* खूब खिलती है *
surenderpal vaidya
जीवन आसान नहीं है...
जीवन आसान नहीं है...
Ashish Morya
समय
समय
Swami Ganganiya
तिमिर है घनेरा
तिमिर है घनेरा
Satish Srijan
3532.🌷 *पूर्णिका*🌷
3532.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
■ आलेख
■ आलेख
*प्रणय प्रभात*
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
ललकार भारद्वाज
जागो जागो तुम सरकार
जागो जागो तुम सरकार
gurudeenverma198
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
VINOD CHAUHAN
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
लेखक कौन ?
लेखक कौन ?
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
उधार ....
उधार ....
sushil sarna
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
बच्चे
बच्चे
Shivkumar Bilagrami
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
खेत -खलिहान
खेत -खलिहान
नाथ सोनांचली
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
VEDANTA PATEL
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
शेखर सिंह
सज गई अयोध्या
सज गई अयोध्या
Kumud Srivastava
Loading...