Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2018 · 1 min read

दिखा प्रतिबिम्ब दर्पण में…..

एक मुक्तक:
_________________________________________
बह्र: बहर-ए–हज़ज मुसम्मन सालिम
रुक्न: मफाईलुन मफाईलुन मफाईलुन मफाईलुन
हिन्दी नाम: ‘विधाता’ या ‘शुद्धगा’ छंद आधरित मुक्तक
गण विन्यास: यमातागा यमातागा यमातागा यमातागा
_________________________________________
दिखा प्रतिबिम्ब दर्पण में सहज यह भाव आया है.
तुम्हारा साथ ऐ साथी हमारे मन को भाया है.
समर्पित भावना हो यदि शिकायत ही कहाँ होगी,
न हो अब दिल्लगी दिल से जहाँ सब कुछ लुटाया है..
_________________________________________
रचनाकार: इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

Language: Hindi
378 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
सिद्धार्थ गोरखपुरी
डर
डर
अखिलेश 'अखिल'
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
मां - हरवंश हृदय
मां - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
gurudeenverma198
सिसकियाँ
सिसकियाँ
Dr. Kishan tandon kranti
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
manjula chauhan
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
इस शहर में
इस शहर में
Shriyansh Gupta
धीरज और संयम
धीरज और संयम
ओंकार मिश्र
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
हौसला
हौसला
Shyam Sundar Subramanian
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मुहब्बत तो दिल की सियासत पर होती है,
मुहब्बत तो दिल की सियासत पर होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
होना नहीं अधीर
होना नहीं अधीर
surenderpal vaidya
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
Ashish shukla
2497.पूर्णिका
2497.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शब्दों का झंझावत🙏
शब्दों का झंझावत🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नहीं कोई धरम उनका
नहीं कोई धरम उनका
अटल मुरादाबादी(ओज व व्यंग्य )
दशावतार
दशावतार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
बुंदेली दोहे- कीचर (कीचड़)
बुंदेली दोहे- कीचर (कीचड़)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
" हय गए बचुआ फेल "-हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
" जय भारत-जय गणतंत्र ! "
Surya Barman
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
Ritu Asooja
ज़रूरत के तकाज़ो पर
ज़रूरत के तकाज़ो पर
Dr fauzia Naseem shad
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
Sunil Maheshwari
Loading...