Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है

दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
छीना है चैन जिसने वो आंखे तुम्हारी हैं
कर दिया है झंकृत मेरे हृदय के तारों को
आती है हर दिशा से वो तान तुम्हारी है

संजय
16.05.2023

259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Er. Sanjay Shrivastava
View all
You may also like:
पत्रकार
पत्रकार
Kanchan Khanna
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
Kumar lalit
क्यों दोष देते हो
क्यों दोष देते हो
Suryakant Dwivedi
*सौलत पब्लिक लाइब्रेरी: एक अध्ययन*
*सौलत पब्लिक लाइब्रेरी: एक अध्ययन*
Ravi Prakash
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
🏛️ *दालान* 🏛️
🏛️ *दालान* 🏛️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
24/244. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/244. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
Rekha Drolia
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
Shweta Soni
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
"कैसे सबको खाऊँ"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
अनिल कुमार
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फ़ना
फ़ना
Atul "Krishn"
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
"तलबगार"
Dr. Kishan tandon kranti
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
Anil Mishra Prahari
डर
डर
Neeraj Agarwal
हिसाब रखियेगा जनाब,
हिसाब रखियेगा जनाब,
Buddha Prakash
मा भारती को नमन
मा भारती को नमन
Bodhisatva kastooriya
■ सामयिक आलेख-
■ सामयिक आलेख-
*Author प्रणय प्रभात*
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
आर.एस. 'प्रीतम'
असमान शिक्षा केंद्र
असमान शिक्षा केंद्र
Sanjay ' शून्य'
Loading...