Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2023 · 1 min read

दिखता नही किसी को

गीत..

दिखता नही किसी को कुएं में आज पानी।
गायब -सी हो गई है पुरखों की निशानी।।

रहती चहल-पहल थी चौके पे सुबह-शाम।
रखते थे लोग इसका कोई ना कोई नाम।।
बहती हवा यहाँ थी पहले सुखद सुहानी।
गायब -सी हो गई है पुरखों की निशानी।।

वो दिन अभी भी याद हमें थे करीब जब।
पानी निकाल इससे रहे नित्य पीते सब।।
कहते बुजुर्ग अब भी व्यथा अपनी जुबानी।
गायब- सी हो गई है पुरखों की निशानी।।

कहने को गाँव अब भी मगर बात वो कहाँ।
पहले -सा प्यार दिखता नहीं आज है वहाँ।।
आवेगी नहीं लगता कि गुलशन में रवानी।
गायब -सी हो गई है पुरखों की निशानी।।

पटते कुएं को देख कोई टोकता नहीं।
ऐसा हुआ है क्या जो कोई रोकता नहीं।।
लिख कैसी रहे हम ये तरक्की की कहानी।
गायब -सी हो गई है पुरखों की निशानी।।

दिखता नही किसी को कुएं में आज पानी।
गायब -सी हो गई है पुरखों की निशानी।।

डाॅ. राजेन्द्र सिंह ‘राही’
(बस्ती उ. प्र.)

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"चलो जी लें आज"
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
Paras Nath Jha
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Dr. Kishan tandon kranti
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
चील .....
चील .....
sushil sarna
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
Neelam Sharma
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
gurudeenverma198
.......,,
.......,,
शेखर सिंह
सत्य बोलना,
सत्य बोलना,
Buddha Prakash
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
DrLakshman Jha Parimal
कविता का प्लॉट (शीर्षक शिवपूजन सहाय की कहानी 'कहानी का प्लॉट' के शीर्षक से अनुप्रेरित है)
कविता का प्लॉट (शीर्षक शिवपूजन सहाय की कहानी 'कहानी का प्लॉट' के शीर्षक से अनुप्रेरित है)
Dr MusafiR BaithA
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
चार दिन गायब होकर देख लीजिए,
पूर्वार्थ
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
21 उम्र ढ़ल गई
21 उम्र ढ़ल गई
Dr Shweta sood
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
*सरकारी कार्यक्रम का पास (हास्य व्यंग्य)*
*सरकारी कार्यक्रम का पास (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
मेरी बेटी
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
गुज़िश्ता साल -नज़्म
गुज़िश्ता साल -नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
#शीर्षक:-बहकाना
#शीर्षक:-बहकाना
Pratibha Pandey
** लिख रहे हो कथा **
** लिख रहे हो कथा **
surenderpal vaidya
श्री कृष्णा
श्री कृष्णा
Surinder blackpen
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
👉 सृष्टि में आकाश और अभिव्यक्ति में काश का विस्तार अनंत है।
👉 सृष्टि में आकाश और अभिव्यक्ति में काश का विस्तार अनंत है।
*Author प्रणय प्रभात*
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Shyam Sundar Subramanian
नया साल
नया साल
umesh mehra
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
Loading...