Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ

दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
पानी में चाँद उतरा है,लायें तो किस तरह!

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
यहां  ला  के हम भी , मिलाए गए हैं ,
यहां ला के हम भी , मिलाए गए हैं ,
Neelofar Khan
अगर प्यार करना गुनाह है,
अगर प्यार करना गुनाह है,
Dr. Man Mohan Krishna
खोटे सिक्कों के जोर से
खोटे सिक्कों के जोर से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
मुश्किल है अपना मेल प्रिय।
मुश्किल है अपना मेल प्रिय।
Kumar Kalhans
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
Mahendra Narayan
*
*"ब्रम्हचारिणी माँ"*
Shashi kala vyas
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Sukoon
Bundeli doha-fadali
Bundeli doha-fadali
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
माँ
माँ
The_dk_poetry
परिसर खेल का हो या दिल का,
परिसर खेल का हो या दिल का,
पूर्वार्थ
सिखों का बैसाखी पर्व
सिखों का बैसाखी पर्व
कवि रमेशराज
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
जीवन में भी
जीवन में भी
Dr fauzia Naseem shad
वो शख्स लौटता नहीं
वो शख्स लौटता नहीं
Surinder blackpen
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"समय का भरोसा नहीं है इसलिए जब तक जिंदगी है तब तक उदारता, वि
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
*बहुत जरूरी बूढ़ेपन में, प्रियतम साथ तुम्हारा (गीत)*
*बहुत जरूरी बूढ़ेपन में, प्रियतम साथ तुम्हारा (गीत)*
Ravi Prakash
मैं उनके मंदिर गया था / MUSAFIR BAITHA
मैं उनके मंदिर गया था / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ये जिंदगी है साहब.
ये जिंदगी है साहब.
शेखर सिंह
■ दोनों पहलू जीवन के।
■ दोनों पहलू जीवन के।
*प्रणय प्रभात*
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...