Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2022 · 1 min read

दास्तां-ए-दर्द

दास्तां-ए-दर्द

कुछ ना मांगा तो, बेचारी बता दिया.
गलती से कुछ मांग लिया तो, तोहमतो का सिलसिला लगा दिया।
सारा सच यही है या आगे भी कुछ कड़ी है,
वह तो बस चली है, गिरी है, उठी है, पर आज भी कटघरे में खड़ी है ।।

#seematuhaina

3 Likes · 329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
gurudeenverma198
ଅନୁଶାସନ
ଅନୁଶାସନ
Bidyadhar Mantry
*पिता (सात दोहे )*
*पिता (सात दोहे )*
Ravi Prakash
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
हर मोड़ पर ,
हर मोड़ पर ,
Dhriti Mishra
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
बन्दे   तेरी   बन्दगी  ,कौन   करेगा   यार ।
बन्दे तेरी बन्दगी ,कौन करेगा यार ।
sushil sarna
प्रकृति एवं मानव
प्रकृति एवं मानव
नन्दलाल सुथार "राही"
तैराक हम गहरे पानी के,
तैराक हम गहरे पानी के,
Aruna Dogra Sharma
3063.*पूर्णिका*
3063.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था का भविष्य
भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था का भविष्य
Shyam Sundar Subramanian
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
सत्संग
सत्संग
पूर्वार्थ
कैसे आंखों का
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
*Author प्रणय प्रभात*
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
प्रीतम श्रावस्तवी
कहानी - आत्मसम्मान)
कहानी - आत्मसम्मान)
rekha mohan
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
Shweta Soni
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
*कोई किसी को न तो सुख देने वाला है और न ही दुःख देने वाला है
Shashi kala vyas
निर्वात का साथी🙏
निर्वात का साथी🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"जब"
Dr. Kishan tandon kranti
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
PRATIK JANGID
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
Harminder Kaur
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
"राखी के धागे"
Ekta chitrangini
पास नहीं
पास नहीं
Pratibha Pandey
........?
........?
शेखर सिंह
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
Loading...