Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

दान देने के पश्चात उसका गान , दान की महत्ता को कम ही नहीं

दान देने के पश्चात उसका गान , दान की महत्ता को कम ही नहीं अपितु सर्वथा नष्ट कर देता है ।
क्योंकि जो दिया , और जिसे दिया वह तो उसी का था ।
” आप केवल निमित्त मात्र हैं । ”

सीमा वर्मा

222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Seema Verma
View all
You may also like:
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
"फितरत"
Ekta chitrangini
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
मूक संवेदना
मूक संवेदना
Buddha Prakash
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नौकरी
नौकरी
Aman Sinha
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
surenderpal vaidya
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
कितना छुपाऊँ, कितना लिखूँ
कितना छुपाऊँ, कितना लिखूँ
Dr. Kishan tandon kranti
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
अलसाई सी तुम
अलसाई सी तुम
Awadhesh Singh
अमीरों की गलियों में
अमीरों की गलियों में
gurudeenverma198
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
Anil Mishra Prahari
राधा की भक्ति
राधा की भक्ति
Dr. Upasana Pandey
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
****प्रेम सागर****
****प्रेम सागर****
Kavita Chouhan
पतंग
पतंग
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
केशव तेरी दरश निहारी ,मन मयूरा बन नाचे
केशव तेरी दरश निहारी ,मन मयूरा बन नाचे
पं अंजू पांडेय अश्रु
■ मुस्कान में भगवान...
■ मुस्कान में भगवान...
*प्रणय प्रभात*
*धर्मप्राण श्री किशोरी लाल चॉंदीवाले : शत-शत नमन*
*धर्मप्राण श्री किशोरी लाल चॉंदीवाले : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
किरणों का कोई रंग नहीं होता
किरणों का कोई रंग नहीं होता
Atul "Krishn"
जब सहने की लत लग जाए,
जब सहने की लत लग जाए,
शेखर सिंह
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
Loading...