Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

*दादा-दादी (बाल कविता)*

दादा-दादी (बाल कविता)
______________________
बूढ़े हैं अब दादा-दादी
घर में ही रहने के आदी

तीरथ-यात्रा कब जा पाए
चलने-फिरने से घबराए

कंधों पर मैं ले जाऊॅंगा
सारे तीरथ करवाऊॅंगा
———————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुलसी युग 'मानस' बना,
तुलसी युग 'मानस' बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2463.पूर्णिका
2463.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक... हंसगति छन्द
मुक्तक... हंसगति छन्द
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेटी
बेटी
Dr Archana Gupta
Canine Friends
Canine Friends
Dhriti Mishra
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
* प्यार का जश्न *
* प्यार का जश्न *
surenderpal vaidya
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ
माँ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
माँ तेरे चरणों
माँ तेरे चरणों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ऐसे भी मंत्री
ऐसे भी मंत्री
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
I.N.D.I.A
I.N.D.I.A
Sanjay ' शून्य'
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
Neelam Sharma
प्रेम में डूबे रहो
प्रेम में डूबे रहो
Sangeeta Beniwal
आए प्रभु करके कृपा , इतने दिन के बाद (कुंडलिया)
आए प्रभु करके कृपा , इतने दिन के बाद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
कितने बदल गये
कितने बदल गये
Suryakant Dwivedi
दया करो भगवान
दया करो भगवान
Buddha Prakash
एक नासूर ये गरीबी है
एक नासूर ये गरीबी है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...