Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 2 min read

दशावतार

“दशावतार”
हमारे पौराणिक शास्त्रों में दशावतार व्रत के संबंध में बतलाया गया है कि यह व्रत भाद्रपद शुक्ल पक्ष दशमी तिथि को दशावतार व्रत किया जाता है। इस व्रत को करने से मनुष्य के कष्ट दूर होते हैं और मोक्ष की प्राप्ति देने वाला व्रत माना गया है।
दशावतार तिथि में भगवान विष्णु जी के दस अवतारों की पूजन की जाती है।श्री हरि विष्णु जी को सर्व शक्तिशाली कहा गया है।
“ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” इस मंत्र जप फलदायी होता है ।
हिंदू धर्म में विभिन्न देवताओं के अवतार की
मान्यता है। भगवान श्रीहरि विष्णु ने धर्म की रक्षा हेतु हर काल में अवतार लिया। वैसे भगवान विष्णु के अनेक अवतार हुए हैं लेकिन उनमें 10 अवतार ऐसे हैं, जो प्रमुख रूप से स्थान पाते हैं। जिन्हें दशावतार कहा जाता हैं। विष्णु के 10 अवतार ;-
1. मत्स्य अवतार- पृथ्वी के जलमग्न होने की स्थिति में भगवान विष्णु ने मछली का रूप धारण कर रक्षा की।

2. कूर्म अवतार- समुद्र मंथन के समय मंदर पर्वत को भगवान विष्णु ने क्षीरसागर में अपने कवच पर संभाला था तथा उनकी सहायता से देवों एवं असुरों ने समुद्र मंथन करके 14 रत्नों की प्राप्ति की। अत: इसके लिए भगवान विष्णु को कूर्म अवतार लेना पड़ा था।

3. वराह अवतार- पौराणिक कथा के अनुसार भगवान विष्णु ने हिरण्याक्ष नामक राक्षस का वध किया था तथा पृथ्वी की रक्षा करने के लिए वराह अवतार धारण किया था।

4. नृसिंह अवतार- भगवान श्रीहरि विष्णु ने नृसिंह रूप धारण कर भक्त प्रहलाद की रक्षा की थी जिसके लिए उन्हें हिरण्यकश्यप का वध करना पड़ा था।

5. वामन अवतार- विष्णुजी ने वामन ब्राह्मण का रूप धरकर राजा बली से देवताओं की रक्षा की थी जिसके चलते उन्हें वामन अवतार रूप धारण करना पड़ा था।

6. श्रीराम अवतार- भगवान श्रीहरि ने त्रेतायुग में पुरुषोत्तम प्रभु श्रीराम का अवतार धारण कर लंकाधिपति दशानन रावण का वध किया था और दुनिया को असत्य पर विजय की जीत सत्य को दर्शाकर रावण का नाश किया।

7. कृष्ण अवतार- श्रीहरि विष्णु ने द्वापर युग में कृष्णावतार रूप में जन्म लेकर कंस का वध किया तथा प्रजा की रक्षा करके धर्म को स्थापित किया।

8. परशुराम अवतार- विष्णु जी ने परशुराम अवतार लेकर अत्याचारी हैहयवंशी क्षत्रिय वंशियों से 36 बार युद्ध किया था और 36 बार ही उनका नाश कर दिया था।

9. बुद्ध अवतार- बुद्ध को विष्णु का एक अवतार भी माना है। हालांकि कुछ लोग मानते हैं कि बुद्ध अवतार थे या नहीं थे इस पर विवाद है।
10. कल्कि अवतार- ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु भविष्य में कलियुग के अंत में कल्कि अवतार में आएंगे और पापियों का अंत करके लोगों के दु:खों का निदान करेंगे।
“ॐ नमो भगवते वासुदेवाय”

Language: Hindi
1 Like · 537 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां जब मैं रोजगार पाऊंगा।
मां जब मैं रोजगार पाऊंगा।
Rj Anand Prajapati
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
Dr. Man Mohan Krishna
तु आदमी मैं औरत
तु आदमी मैं औरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुद में हैं सब अधूरे
खुद में हैं सब अधूरे
Dr fauzia Naseem shad
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
"समष्टि"
Dr. Kishan tandon kranti
आत्मरक्षा
आत्मरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चाँद  भी  खूबसूरत
चाँद भी खूबसूरत
shabina. Naaz
सच तो ये भी है
सच तो ये भी है
शेखर सिंह
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
"आत्म-निर्भरता"
*Author प्रणय प्रभात*
बेख़बर
बेख़बर
Shyam Sundar Subramanian
*** सागर की लहरें....! ***
*** सागर की लहरें....! ***
VEDANTA PATEL
क्यों हिंदू राष्ट्र
क्यों हिंदू राष्ट्र
Sanjay ' शून्य'
दिल का मौसम सादा है
दिल का मौसम सादा है
Shweta Soni
आज का बदलता माहौल
आज का बदलता माहौल
Naresh Sagar
गुजार दिया जो वक्त
गुजार दिया जो वक्त
Sangeeta Beniwal
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
जब निहत्था हुआ कर्ण
जब निहत्था हुआ कर्ण
Paras Nath Jha
ये जिन्दगी तुम्हारी
ये जिन्दगी तुम्हारी
VINOD CHAUHAN
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
क्या वैसी हो सच में तुम
क्या वैसी हो सच में तुम
gurudeenverma198
23/66.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/66.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नफरत थी तुम्हें हमसे
नफरत थी तुम्हें हमसे
Swami Ganganiya
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
अश्रु
अश्रु
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
मत रो लाल
मत रो लाल
Shekhar Chandra Mitra
Loading...