Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 2 min read

*दशहरे पर मछली देखने की परंपरा*

दशहरे पर मछली देखने की परंपरा
______________________________
रामपुर, 5 अक्टूबर 2022 दशहरा । “मछली देख लो …मछली देख लो” की आवाज को सुनकर सुबह रंगभरी हो गई । बचपन से दशहरे के दिन हर साल सुबह-सुबह यह मधुर आवाज कानों में गूॅंजती रही है। झटपट बाहर जाकर देखा, तो हाथों में बर्तन लिए दो छोटे बच्चे जल में तैरती हुई मछली दिखाने के लिए उपस्थित थे । उत्साह से भर कर उन्हें घर के भीतर प्रवेश कराया।
हमारा पोता कल रात वायदा करवा के सोया था कि जब मछली वाले आऍं, तो उसे जरूर उठा देना । लिहाजा आवाज देकर पोते को उठाया गया । वह ऑंख मलता हुआ बाहर आया, लेकिन मछलियॉं देखकर प्रसन्न हो गया। फिर सबने मछलियों के बर्तन में पैसे डाले।
” कहॉं से लाते हो यह मछलियॉं ?”- हमने मछली वालों से पूछा ।
यह दोनों बच्चे भाई-बहन थे । भाई ज्यादा फुर्तीला था । बोला “यहीं तालाब से पकड़कर लाते हैं।” ‘यहीं’ से उसका आशय स्थानीय तालाब से था ।
“डर नहीं लगता ?”-हमने पूछा ।
“डरना कैसा ? “-वह अब मुस्कुरा रहा था ।
“पहले तो काली-काली मछलियॉं आती थीं। अब रंग-बिरंगी मछलियॉं आने लगी हैं। क्या यह तालाब से मिल जाती हैं ?”
वह बोला “हॉं ! तालाब की ही हैं।”
” क्या सचमुच की हैं ?” हमारे कहने पर अब उसने मछलियों को हिला कर दिखाया । वह सचमुच जीवित मछलियॉं थीं।
हमारा अगला प्रश्न था “क्या शाम को इन्हें फिर से तालाब में छोड़ दोगे ? ”
बिना हिचकिचाए हुए मछली वाले ने जवाब दिया “हॉं ! छोड़ देंगे । वैसे यह मॉल में भी चल जाती हैं ।”
मॉल -शब्द सुनकर यह स्पष्ट हो गया कि मछली वाले में दूर तक सोचने का हुनर है । उसमें मछली पकड़ने का साहस भी है, गली-गली घूम कर मछली दिखाने की परंपरा से जुड़ने का उत्साह भी है और लंबी छलॉंग लगाकर उन मछलियों को मॉल तक ले जाने की कार्ययोजना भी उसके मस्तिष्क में है । मछली देखना सुखद अनुभव रहा लेकिन उससे भी ज्यादा उन बच्चों की बहादुरी और उत्साह देखकर बहुत अच्छा लगा ।
————————————–
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
सौरभ पाण्डेय
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
gurudeenverma198
पिया-मिलन
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इन दिनों
इन दिनों
Dr. Kishan tandon kranti
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
चोट ना पहुँचे अधिक,  जो वाक़ि'आ हो
चोट ना पहुँचे अधिक, जो वाक़ि'आ हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कान्हा घनाक्षरी
कान्हा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
उसने मुझको बुलाया तो जाना पड़ा।
उसने मुझको बुलाया तो जाना पड़ा।
सत्य कुमार प्रेमी
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
रुपेश कुमार
2373.पूर्णिका
2373.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अति मंद मंद , शीतल बयार।
अति मंद मंद , शीतल बयार।
Kuldeep mishra (KD)
एक बालक की अभिलाषा
एक बालक की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
द्रोण की विवशता
द्रोण की विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो लोग....
वो लोग....
Sapna K S
चाय
चाय
Rajeev Dutta
कान्हा
कान्हा
Mamta Rani
"बड़ी बातें करने के लिए
*Author प्रणय प्रभात*
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
Jyoti Khari
Kagaj ki nav ban gyi mai
Kagaj ki nav ban gyi mai
Sakshi Tripathi
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
Loading...