Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

रावण के मन की व्यथा

अबकी बार दशहरे पर,
रावण अदालत पहुंच गया,
जज साहब से वह बोला,
माई लॉर्ड,मेरे साथ भी तो,
कुछ तो अब न्याय करो,
वर्षो से अन्याय सह रहा हूं,
अब तो मेरी सुनवाई करो।।

चुराया था सिया को एक बार,
सजा क्यों मिलती है बार बार।
अपराध किया था मैने एक बार,
सजा मिल चुकी है हजारों बार।
अपराध किया था मैने,हजूर,
सजा सारे परिवार को देते हो
ये कौन सी धारा थी हजूर,
जिसके अंतर्गत ये सजा देते हो।।

लक्ष्मण ने भी काटी थी,
मेरी सगी बहिन की नाक,
फिर सारे नियम कानून,
क्यो रक्खे थे तुमने ताक।
हनुमान ने उजाड़ी थी लंका,
और उसको भी थी जलाई,
फिर आपने उनको क्यो
सजा नही तुरंत सुनाई।।

मुझे मेरे परिवार के साथ,
क्यो हर वर्ष जलाया जाता है,
मेरे भाई बंधुओ को भी,
मुझे कंधा देने के अधिकार से,
क्यों वंचित किया जाता है ?
मेरी संपत्ति को जलाने पर,
क्यो नही दंड दिया जाता है ?

आज बलात्कार करने वालों को,
संसद में शान से बिठाया जाता है।
मैने तो सिया के छुआ भी नहीं,
फिर भी अपराध माना जाता है।
ये अन्याय नही,और क्या है
फिर कानून अंधा क्यो हो जाता है।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

4 Likes · 5 Comments · 378 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
" फेसबूक फ़्रेंड्स "
DrLakshman Jha Parimal
दिखावा
दिखावा
Swami Ganganiya
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
" *लम्हों में सिमटी जिंदगी* ""
सुनीलानंद महंत
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
कुतूहल आणि जिज्ञासा
कुतूहल आणि जिज्ञासा
Shyam Sundar Subramanian
बड़े बच्चों का नाम स्कूल में लिखवाना है
बड़े बच्चों का नाम स्कूल में लिखवाना है
gurudeenverma198
अब भी देश में ईमानदार हैं
अब भी देश में ईमानदार हैं
Dhirendra Singh
हर-सम्त शोर है बरपा,
हर-सम्त शोर है बरपा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ अप्रासंगिक विचार
■ अप्रासंगिक विचार
*प्रणय प्रभात*
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
!!! नानी जी !!!
!!! नानी जी !!!
जगदीश लववंशी
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
"पते पर"
Dr. Kishan tandon kranti
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
shabina. Naaz
शहद टपकता है जिनके लहजे से
शहद टपकता है जिनके लहजे से
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
क्या छिपा रहे हो
क्या छिपा रहे हो
Ritu Asooja
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
2934.*पूर्णिका*
2934.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वेलेंटाइन डे रिप्रोडक्शन की एक प्रेक्टिकल क्लास है।
वेलेंटाइन डे रिप्रोडक्शन की एक प्रेक्टिकल क्लास है।
Rj Anand Prajapati
मंजिल तक का संघर्ष
मंजिल तक का संघर्ष
Praveen Sain
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
दोषी कौन?
दोषी कौन?
Indu Singh
Loading...