Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-

दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
दवा सिर्फ डॉक्टर की लगती है। दुआ किसी की भी लग जाती है।।
संतोष बरमैया जय

1 Like · 276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
****** मन का मीत  ******
****** मन का मीत ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
साइस और संस्कृति
साइस और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
कर्जा
कर्जा
RAKESH RAKESH
2551.*पूर्णिका*
2551.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गाली भी बुरी नहीं,
गाली भी बुरी नहीं,
*प्रणय प्रभात*
गीत
गीत
Shiva Awasthi
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
कभी उसकी कदर करके देखो,
कभी उसकी कदर करके देखो,
पूर्वार्थ
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
रंग जाओ
रंग जाओ
Raju Gajbhiye
निर्दोष कौन ?
निर्दोष कौन ?
Dhirendra Singh
"संवेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा दुश्मन
मेरा दुश्मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
Shweta Soni
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
ख्वाहिशों के बैंलेस को
ख्वाहिशों के बैंलेस को
Sunil Maheshwari
गांव की याद
गांव की याद
Punam Pande
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
सेवा कार्य
सेवा कार्य
Mukesh Kumar Rishi Verma
क्या क्या बदले
क्या क्या बदले
Rekha Drolia
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
कृष्णकांत गुर्जर
नया भारत
नया भारत
गुमनाम 'बाबा'
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
डुगडुगी बजती रही ....
डुगडुगी बजती रही ....
sushil sarna
Loading...