Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

दर्द पर लिखे अशआर

आपकी याद तो नहीं लेकिन ।
कोई पिघला है दर्द आँखों से ।।

एक दर्द-ए-एहसास जिसे कह न पाऊं कहीं ।
गुज़रते वक़्त की मानिंद गुज़र न जाऊं कहीं ।।

ज़िंदगी तुझसे यहाँ कौन कटा होता है ।
दर्द हर सांस के हिस्से में बंटा होता है ।।

ज़ख़्म नासूर करके रखते हैं ।
दर्द की हम दवा नहीं करते ।।

इनका एहसास खूब होता है ।
दर्द इतने बुरे नहीं होते ।।

ज़ख़्म गहरा सा कोई दे जाओ ।
दर्द में अब मज़ा नहीं आता ।।

जब भी सोचेंगे उसको जीने की ।
ज़िंदगी दर्द का मज़ा देगी ।।

दर्द इसका समझ नहीं सकते ।
खो दिया हमने कितने अपनों को ।।

जैसा हैं हम अंदर से उसे वैसा ही दिखाना ।
मुश्किल है बहुत दर्द की तस्वीर बनाना ।।

दर्द शिद्दत को पार कर आया ।
इश्क़ रोया जो आज सीने में ।।

दर्द को राहतें नहीं मिलती ।
लफ़्ज़ एहसास जब सिमट जाए ।।

ज़िंदगी का कोई लम्हा न कभी तुझपे भारी गुज़रे ।
तेरे हर दर्द से कह दूंगी मुझसे होकर गुज़रे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
13 Likes · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
रोजी रोटी
रोजी रोटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"ഓണാശംസകളും ആശംസകളും"
DrLakshman Jha Parimal
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"सुख-दुःख"
Dr. Kishan tandon kranti
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
Shashi kala vyas
मैं शायर भी हूँ,
मैं शायर भी हूँ,
Dr. Man Mohan Krishna
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेहतरीन इंसान वो है
बेहतरीन इंसान वो है
शेखर सिंह
"रामगढ़ की रानी अवंतीबाई लोधी"
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
तेरे संग एक प्याला चाय की जुस्तजू रखता था
तेरे संग एक प्याला चाय की जुस्तजू रखता था
VINOD CHAUHAN
*गर्मी पर दोहा*
*गर्मी पर दोहा*
Dushyant Kumar
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
*प्रणय प्रभात*
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Meri Jung Talwar se nahin hai
Meri Jung Talwar se nahin hai
Ankita Patel
पायल
पायल
Kumud Srivastava
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*यादें कब दिल से गईं, जग से जाते लोग (कुंडलिया)*
*यादें कब दिल से गईं, जग से जाते लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🙏
🙏
Neelam Sharma
वो कैसा दौर था,ये कैसा दौर है
वो कैसा दौर था,ये कैसा दौर है
Keshav kishor Kumar
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
Neeraj Mishra " नीर "
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
गुमनाम 'बाबा'
3421⚘ *पूर्णिका* ⚘
3421⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
" यही सब होगा "
Aarti sirsat
Loading...