Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2017 · 1 min read

दर्द दिल की बता दवा क्या है

दर्द दिल की बता दवा क्या है
प्यार का अब मिला सिला क्या है

बात हर रोज हुआ करती थी जो
अब बता दे मिली सजा क्या है

चाह का जब नशा बढ़ा इतना
पर तुझे हासिले दगा क्या है

बात ज्यादा हदें बढ़ी तो मैं
पूछ बैठी कि फैसला क्या है

साथ रहना न हो सकेगा जब
मूर्ख जो मैं बनी कला क्या है

कैद हो कर नजर मिली तुझसे
आस का तब महल बना क्या है

शूल तेरे लिए सजाये जो
हो गया वो तभी दुआ क्या है

याद में जब चला कभी आये
तब हँसा दे मुझे अदा क्या है

Language: Hindi
73 Likes · 1 Comment · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
आग लगाते लोग
आग लगाते लोग
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लोग गर्व से कहते हैं मै मर्द का बच्चा हूँ
लोग गर्व से कहते हैं मै मर्द का बच्चा हूँ
शेखर सिंह
ज़िद से भरी हर मुसीबत का सामना किया है,
ज़िद से भरी हर मुसीबत का सामना किया है,
Kanchan Alok Malu
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
*बहुत अच्छाइ‌याँ हैं, मन्दिरों में-तीर्थ जाने में (हिंदी गजल
*बहुत अच्छाइ‌याँ हैं, मन्दिरों में-तीर्थ जाने में (हिंदी गजल
Ravi Prakash
Yash Mehra
Yash Mehra
Yash mehra
आज का महाभारत 2
आज का महाभारत 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भरी महफिल
भरी महफिल
Vandna thakur
किस बात का गुमान है
किस बात का गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
लौट कर रास्ते भी
लौट कर रास्ते भी
Dr fauzia Naseem shad
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सत्य कुमार प्रेमी
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
Shashi kala vyas
मोदी ही क्यों??
मोदी ही क्यों??
गुमनाम 'बाबा'
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
मैं अलग हूँ
मैं अलग हूँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
"रहबर"
Dr. Kishan tandon kranti
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
Mukul Koushik
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
Manoj Mahato
4- हिन्दी दोहा बिषय- बालक
4- हिन्दी दोहा बिषय- बालक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
Shubham Pandey (S P)
■ सियासी ग़ज़ल
■ सियासी ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Loading...