Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

दर्द ऐ गरीबी

कभी देखती हूँ खाली कढ़ाही को, कभी बच्चों के खाली पेट को,
साहब कभी मन को अपने मार कर देखती हूँ खाली पड़ी प्लेट को।

सभी को पता हैं हालात ऐ गरीब पर देखो साहब सभी मौन हैं,
एक वक़्त खाली ही रह जाती है थाली देखकर चीजों के रेट को।

तन पर जो कपड़ा है वो भी शर्मिंदा है घिस घिस कर फट जाने पर,
भीख क्या काम भी नहीं मिलता देखा खटखटा कर हर गेट को।

दर्द चेहरे से झलकता है हमारे कहने को यही कहते हैं सभी,
पर फिर भी लाज नहीं आती हमारा ही खून चूसते हुए सेठ को।

अपनी रोटियाँ सेंकते हैं राजनेता हमारे अरमानों के चूल्हे पर,
साहब देखिये खेल तकदीर का हम गरीबों को ही चढ़ाते भेंट को।

ख़ुशी किसे कहते हैं साहब हम गरीब भूल ही बैठे हैं कसम से,
लिखा जिस पर दर्द हमारा सुलक्षणा संभाल कर रखना उस स्लेट को।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

2 Likes · 1 Comment · 313 Views
You may also like:
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
अनमोल राजू
Anamika Singh
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
संत की महिमा
Buddha Prakash
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
Loading...