Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

(दम)

उठते ही बोले सुन
पँछी ये गुनगुन।
बस सपने ना बुन
अब चलना हैं।

डर-डर-डर नहीं
डर के ना जड़।
लड़-लड़-लड़ तूँ
खुद से ही लड़।

उठ कर गिरना
गिर कर झरना।
चाहे कमजोर पर
पग धरना है।

बस सपने ना बुन
अब चलना हैं।।

रोकती ना राहें
टोकती ना राहें
कहीं छोड़ अधर मुख
मोड़ती ना राहें।

पथ में ही दम
पथ में ही हम
पथ में ही गम
कम करना है।

उठते ही बोले सुन
पँछी ये गुनगुन।
बस सपने ना बुन
अब चलना हैं।।

युवा कवि:
महेश कुमार (हरियाणवी)
महेंद्रगढ़, हरियाणा

1 Like · 348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"उजाड़"
Dr. Kishan tandon kranti
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
आलस मेरी मोहब्बत है
आलस मेरी मोहब्बत है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कचनार
कचनार
Mohan Pandey
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
#अब_यादों_में
#अब_यादों_में
*Author प्रणय प्रभात*
माँ
माँ
Shyam Sundar Subramanian
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शिव विनाशक,
शिव विनाशक,
shambhavi Mishra
सैलाब .....
सैलाब .....
sushil sarna
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
Shweta Soni
कीमत क्या है पैमाना बता रहा है,
कीमत क्या है पैमाना बता रहा है,
Vindhya Prakash Mishra
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*
*"मजदूर"*
Shashi kala vyas
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
" भींगता बस मैं रहा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बेटी बेटा कह रहे, पापा दो वरदान( कुंडलिया )
बेटी बेटा कह रहे, पापा दो वरदान( कुंडलिया )
Ravi Prakash
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
बाल कविता: मूंगफली
बाल कविता: मूंगफली
Rajesh Kumar Arjun
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
gurudeenverma198
Loading...