Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 1 min read

” दम घुटते तरुवर “

ये कोई कल परसों की ही बात रही होगी शायद
मीनू अक्सर धाम मंदिर की सीढ़ियों में बैठी थी,
पूजा करी, आरती ली दर्शन पाकर फिर धन्य हुई
मधुर मधुर संगीत सुन राज संग धूप सेंक रही थी,
राज बोला देख मीनू मुस्कुराते हुए हरे भरे तरुवर
सुंदर सुंदर पेड़ पौधे लताएं सब आकार लिए हुई थी,
सच ही तो कहा सुंदरता से काटा गया है उनको तो
चिल्लाहट लेकिन उनकी किसी ने भी नहीं सुनी थी,
तरसती नज़रों से देखा एकटक उन्होंने पूनिया को
देखा मीनू ने उनकी ओर तो रूह कांप ही गई थी,
बोले तूं तो हमारा दर्द समझती है ना सच बताना
सुनकर उनकी दर्दानी दास्तां मैं भी घबरा गई थी,
ये तो खुश हैं लेकिन दम तो हमारा घुट रहा है ना
मन मर्जी का रूप देने की हमारी कामना नहीं थी,
मन मुताबिक हम अब लहरा नहीं सकते समीर संग
कलश तो कोई जानवर बनाने की हमने नहीं कही थी,
हाथ जोड़ बोले बचा सकती है क्या तूं हमको प्लीज़
पूछना जाकर सबसे हमारी इसमें क्या गलती थी,
इससे अच्छा तो हम अस्तित्व में कभी आते ही नहीं
जिंदगी तो नहीं थी लेकिन ये बेबसी भी तो नहीं थी,
खुले चमन में लहराने की हमारी तड़फ समझ मीनू
किसी ने नहीं सोचा लेकिन तुमने तो हमारी सुनी थी।

1 Like · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भौतिकता
भौतिकता
लक्ष्मी सिंह
18--- 🌸दवाब 🌸
18--- 🌸दवाब 🌸
Mahima shukla
दग़ा तुमसे जब कोई, तेरा हमख़्वाब करेगा
दग़ा तुमसे जब कोई, तेरा हमख़्वाब करेगा
gurudeenverma198
मेरा भारत
मेरा भारत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
सत्य कुमार प्रेमी
यादों की सफ़र
यादों की सफ़र"
Dipak Kumar "Girja"
शहनाई की सिसकियां
शहनाई की सिसकियां
Shekhar Chandra Mitra
मन का जादू
मन का जादू
Otteri Selvakumar
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
ruby kumari
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
कहीं साथी हमें पथ में
कहीं साथी हमें पथ में
surenderpal vaidya
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
जगदीश लववंशी
"मन-मतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
आरजू
आरजू
Kanchan Khanna
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
Sahil Ahmad
चाय दिवस
चाय दिवस
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
👌परिभाषा👌
👌परिभाषा👌
*प्रणय प्रभात*
The Lost Umbrella
The Lost Umbrella
R. H. SRIDEVI
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
Manoj Mahato
3245.*पूर्णिका*
3245.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
B S MAURYA
आदित्य(सूरज)!
आदित्य(सूरज)!
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
नज़र
नज़र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
Loading...