Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2023 · 1 min read

*दबाए मुँह में तम्बाकू, ये पीकें थूके जाते हैं (हास्य मुक्तक)*

दबाए मुँह में तम्बाकू, ये पीकें थूके जाते हैं (हास्य मुक्तक)
_________________________
दबाए मुँह में तम्बाकू, ये पीकें थूके जाते हैं
जहाँ भी देखिए हर एक, कोना ये सजाते हैं
जहाँ बैठे वहीं पर पीक, निर्भयता से थूकेंगे
न घर-बाहर सड़क-गलियों में, ये हर्गिज लजाते हैं
________________________
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
इसकी औक़ात
इसकी औक़ात
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरें आज भी मुझे खुद ढूंढ लेती हैं
ठोकरें आज भी मुझे खुद ढूंढ लेती हैं
Manisha Manjari
3568.💐 *पूर्णिका* 💐
3568.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
*भूमिका (श्री सुंदरलाल जी: लघु महाकाव्य)*
*भूमिका (श्री सुंदरलाल जी: लघु महाकाव्य)*
Ravi Prakash
11. एक उम्र
11. एक उम्र
Rajeev Dutta
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
Swami Ganganiya
मांँ
मांँ
Diwakar Mahto
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
The_dk_poetry
*गाथा बिहार की*
*गाथा बिहार की*
Mukta Rashmi
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कितना करता जीव यह ,
कितना करता जीव यह ,
sushil sarna
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
पूर्वार्थ
वो दौर था ज़माना जब नज़र किरदार पर रखता था।
वो दौर था ज़माना जब नज़र किरदार पर रखता था।
शिव प्रताप लोधी
सकारात्मकता
सकारात्मकता
Sangeeta Beniwal
बुंदेली दोहा-गर्राट
बुंदेली दोहा-गर्राट
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
संकल्प का अभाव
संकल्प का अभाव
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
बचपना
बचपना
Pratibha Pandey
कुछ नही मिलता आसानी से,
कुछ नही मिलता आसानी से,
manjula chauhan
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
सोच
सोच
Neeraj Agarwal
"नोटा"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार
■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार "अकेलापन।"
*प्रणय प्रभात*
बकरा नदी अररिया में
बकरा नदी अररिया में
Dhirendra Singh
Loading...