Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2023 · 1 min read

दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर

दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देखकर
अपने शरीर पर यूँ घाव घाव देखकर

अपने भी वैरी होते हैं मुझको न कोई ज्ञान था
हमने तो आपको दिया बस सम्मान था

फिर क्या हुआ जो रक्षा के हाथ सबने हटा लिए
मुझको गिरते देख कर अपनों ने भी मजे लिए

भेद भाव का क्यों बीज मुझ में भर दिया
अपना पराया का व्यवहार क्यों शुरू किया

कहते है निजसन्तान को आकाश पर बिठाऊंगा
फिर उसके लिए जितना हो सके तुझे दबाऊंगा

सब बदल जाते हैं यहाँ ये बदलाव का दौर है
अपने है बस माता पिता , अपने न कोई और है

मूंद ली नजर सभी ने कष्टों में मुझे देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देखकर

दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देखकर
अपने शरीर पर यूँ घाव घाव देखकर
– अमित पाठक शाकद्वीपी
बोकारो , झारखण्ड
सम्पर्क सूत्र : 09304444946

3 Likes · 1 Comment · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
Bodhisatva kastooriya
गीत-14-15
गीत-14-15
Dr. Sunita Singh
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गांव
गांव
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
सत्य की खोज........एक संन्यासी
सत्य की खोज........एक संन्यासी
Neeraj Agarwal
*अहमब्रह्मास्मि9*
*अहमब्रह्मास्मि9*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
हिंदी दोहा बिषय- बेटी
हिंदी दोहा बिषय- बेटी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
* हो जाओ तैयार *
* हो जाओ तैयार *
surenderpal vaidya
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर राह सफर की।
हर राह सफर की।
Taj Mohammad
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
दीप्ति
दीप्ति
Kavita Chouhan
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ लोक संस्कृति का पर्व : गणगौर
■ लोक संस्कृति का पर्व : गणगौर
*Author प्रणय प्रभात*
कृषक
कृषक
Shaily
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हाइकु .....चाय
हाइकु .....चाय
sushil sarna
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुम्हारे
तुम्हारे
हिमांशु Kulshrestha
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
खूबसूरत, वो अहसास है,
खूबसूरत, वो अहसास है,
Dhriti Mishra
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
कहीं खूबियां में भी खामियां निकाली जाती है, वहीं कहीं  कमियो
कहीं खूबियां में भी खामियां निकाली जाती है, वहीं कहीं कमियो
Ragini Kumari
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
Loading...