Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2023 · 1 min read

थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,

थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
फिर दोस्त बदलते देखो,और दुश्मन बनते देखो,
रिश्तों को टूटते देखो,और अपनों को छूटते देखो,
बड़ी बातें करने वालों के,नक़ाब उतरते देखो,
किसी को डरते देखो,क्या क्या करते देखो,
तुम पर हँसते देखो,लेते अलग रस्ते देखो,
हाँ में हाँ ना मिलाकर,अपनी सोच बदल के देखो,
अपने दिल की बात को,तुम सामने रख के देखो,
लोगों को दूर हटते देखो,सच्चे दोस्त छटते देखो,
नफ़रतें पनपते देखो,और रंग बदलते देखो,
चाशनी सी मीठी बातों में,सच्चाई घोल के देखो,
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,

सच का मतलब ये नहीं कि किसी का
अपमान करना या जानबूझ कर
किसी के दिल को ठेस पहुंचाना।

1 Like · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
Er. Sanjay Shrivastava
1🌹सतत - सृजन🌹
1🌹सतत - सृजन🌹
Dr Shweta sood
*देव हमें दो शक्ति नहीं ज्वर, हमें हराने पाऍं (हिंदी गजल)*
*देव हमें दो शक्ति नहीं ज्वर, हमें हराने पाऍं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
shabina. Naaz
"ऐसा करें कुछ"
Dr. Kishan tandon kranti
जब तू रूठ जाता है
जब तू रूठ जाता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Me and my yoga mat!
Me and my yoga mat!
Sridevi Sridhar
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
"संगठन परिवार है" एक जुमला या झूठ है। संगठन परिवार कभी नहीं
Sanjay ' शून्य'
* मिट जाएंगे फासले *
* मिट जाएंगे फासले *
surenderpal vaidya
.
.
Ragini Kumari
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
युद्ध के मायने
युद्ध के मायने
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सेवा कार्य
सेवा कार्य
Mukesh Kumar Rishi Verma
दोहा बिषय- महान
दोहा बिषय- महान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर  मौन  प्रभात ।
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर मौन प्रभात ।
sushil sarna
#उपमा
#उपमा
*Author प्रणय प्रभात*
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
" पाती जो है प्रीत की "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...