Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

थोड़ा नमक छिड़का

थोड़ा सा नमक छिड़क लिया
थोड़ी सी मिर्च मिला ली
अरसे बाद दर्द पका ली
हल्के-हल्के आँच पे …

थोड़े वादे हमने निभाए
थोड़ी कसमें तुमने खाई
इश्क़ ऐसे जवां होता रहा
धड़कनों के साज़ पर।

इक उम्र हमने बिता दी
इक अरसा तूने खोया
वक्त गुजरता ही गया
यादों के हंसी ख्वाब पर।

फिर यूं हुआ ,बिछड़े हम
जुदाई में फिर निकला दम।
आंखें मेरी ढूंढती रही निशां
कदमों की इक ताल पर।

अब बाकी कुछ बचा है
बस इसी का स्वाद चखा है
पक रहा था जो दर्द
हल्के-हल्के आंच पर।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
3 Likes · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
Sakhawat Jisan
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
Rituraj shivem verma
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
sudhir kumar
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
* मंजिल आ जाती है पास *
* मंजिल आ जाती है पास *
surenderpal vaidya
सफलता का सोपान
सफलता का सोपान
Sandeep Pande
हम और तुम
हम और तुम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
Sunil Suman
"एक हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
कुण्डल / उड़ियाना छंद
कुण्डल / उड़ियाना छंद
Subhash Singhai
मां
मां
Slok maurya "umang"
आज शाम 5 बजे से लगातार सुनिए, सियासी ज्योतिषियों और दरबारियो
आज शाम 5 बजे से लगातार सुनिए, सियासी ज्योतिषियों और दरबारियो
*प्रणय प्रभात*
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
kaustubh Anand chandola
हमें
हमें
sushil sarna
शक
शक
Paras Nath Jha
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
Dhriti Mishra
नजर से मिली नजर....
नजर से मिली नजर....
Harminder Kaur
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
सदा के लिए
सदा के लिए
Saraswati Bajpai
मन मेरे तू सावन सा बन....
मन मेरे तू सावन सा बन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
आसानी से कोई चीज मिल जाएं
आसानी से कोई चीज मिल जाएं
शेखर सिंह
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
Shyam Sundar Subramanian
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
जिंदगी मैं हूं, मुझ पर यकीं मत करो
जिंदगी मैं हूं, मुझ पर यकीं मत करो
Shiva Awasthi
Loading...