Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2017 · 1 min read

थम सी जाती है जीने की ख्वाहिशें

थम सी जाती है जीने की ख्वाहिशें

थम सी जाती है जीने की ख्वाहिशें,
दुखों का पहाड़ जब टूटता है।
नहीं होता बर्दाश्त चिराग तले अंधेरा,
घर का चिराग जब बुझता है।
हो जाता है इंसान बेजान यारो,
भाग्य जब पूरी तरह रूठता है।
तराशा होता है जिसे प्रेम से,
माटी का वही मटका ही क्यों फूटता है?
ये कैसी दराज़दस्ती खुदा मेरे,
गरीबों का घर ही क्यों उजड़ता है?
इस जहाँ में बहुत है ज़मींदार,
फिर तू बेबसों को ही क्यों लूटता है?
दिल ही समझता है उस ज़हमत को,
साथ अपनों का जब छूटता है।
थम सी जाती है जीने की ख्वाहिशें,
दुखों का पहाड़ जब टूटता है।

रचनाकार — सुशील भारती, नित्थर, कुल्लू, (हि.प्र.)

Language: Hindi
516 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील भारती
View all
You may also like:
कहती गौरैया
कहती गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
दोहावली ओम की
दोहावली ओम की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
जिंदगी की खोज
जिंदगी की खोज
CA Amit Kumar
ज़िंदगी के कई मसाइल थे
ज़िंदगी के कई मसाइल थे
Dr fauzia Naseem shad
नाम बनाने के लिए कभी-कभी
नाम बनाने के लिए कभी-कभी
शेखर सिंह
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
यादों की सौगात
यादों की सौगात
RAKESH RAKESH
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
Dr. Upasana Pandey
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
Ankita Patel
In the rainy season, get yourself drenched
In the rainy season, get yourself drenched
Dhriti Mishra
3160.*पूर्णिका*
3160.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सही सलामत हाथ हमारे, सही सलामत पैर हैं 【मुक्तक】*
*सही सलामत हाथ हमारे, सही सलामत पैर हैं 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
कांटा
कांटा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
Deepak Baweja
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे  मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
DrLakshman Jha Parimal
फादर्स डे ( Father's Day )
फादर्स डे ( Father's Day )
Atul "Krishn"
Loading...