Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 1 min read

त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी हो सकता

त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी हो सकता है । गलती के आधार का विश्लेषण करके ही दंड का निर्धारण किया जाना उचित होगा अन्यथा गलती अपराध का रूप ले सकती है । अपराधबोध की असहजता ही कभी कभी गहन अपराध की ओर अग्रसर करती है । इस मनोवैज्ञानिकता को आत्मसात करके ही समस्या का समाधान करे।

लीना आनंद

2 Likes · 564 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
BUTTERFLIES
BUTTERFLIES
Dhriti Mishra
दिल का दर्द, दिल ही जाने
दिल का दर्द, दिल ही जाने
Surinder blackpen
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
थोड़ा अदब भी जरूरी है
थोड़ा अदब भी जरूरी है
Shashank Mishra
"" *मैंने सोचा इश्क करूँ* ""
सुनीलानंद महंत
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
Rj Anand Prajapati
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
Manju Singh
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
The_dk_poetry
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
पूर्वार्थ
Kabhi kabhi paristhiti ya aur halat
Kabhi kabhi paristhiti ya aur halat
Mamta Rani
*नवाब रजा अली खॉं ने श्रीमद्भागवत पुराण की पांडुलिपि से रामप
*नवाब रजा अली खॉं ने श्रीमद्भागवत पुराण की पांडुलिपि से रामप
Ravi Prakash
टपरी पर
टपरी पर
Shweta Soni
छाले पड़ जाए अगर राह चलते
छाले पड़ जाए अगर राह चलते
Neeraj Mishra " नीर "
कमली हुई तेरे प्यार की
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
3654.💐 *पूर्णिका* 💐
3654.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
खुशियाँ
खुशियाँ
Dr Shelly Jaggi
A Departed Soul Can Never Come Again
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Naushaba Suriya
सविता की बहती किरणें...
सविता की बहती किरणें...
Santosh Soni
यूं ही नहीं मैंने तेरा नाम ग़ज़ल रक्खा है,
यूं ही नहीं मैंने तेरा नाम ग़ज़ल रक्खा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
मैं तो महज शराब हूँ
मैं तो महज शराब हूँ
VINOD CHAUHAN
बीतते साल
बीतते साल
Lovi Mishra
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
■ 24 घण्टे चौधराहट।
■ 24 घण्टे चौधराहट।
*प्रणय प्रभात*
छोटे दिल वाली दुनिया
छोटे दिल वाली दुनिया
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...