Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2022 · 1 min read

तोड़ें नफ़रत की सीमाएं

कैद हुई गुनगुनी धूप,कैद सुगंधित मस्त हवाएं
कैद बसंत सुरम्य वादियां, आसमान सुरमई सदाएं
कैद हो गए झुंड चिड़ियों के, और सांस्कृतिक संरचनाएं
फूल चांद तारों का खिलना, नैतिक मूल्य और मान्यताएं
धर्म और मजहब की आड़ में, खींची नफ़रत की सीमाएं
बंट गया देश आपस की फूट में,कैद हुईं सब परमपराएं
आओ मिलकर भूल सुधारें,आओ देश अखंड बनाएं
आजादी का अमृत पान करें, फिर से भारत बर्ष बनाएं
प्रेम प्रीत मैत्री पर चलकर, तोड़ें नफ़रत की सीमाएं
आजादी के अमृत बर्ष में, अंतर्मन कर रहा दुआएं

Language: Hindi
6 Likes · 4 Comments · 216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
Suryakant Dwivedi
: काश कोई प्यार को समझ पाता
: काश कोई प्यार को समझ पाता
shabina. Naaz
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
फितरत ना बदल सका
फितरत ना बदल सका
goutam shaw
एक लम्हा भी नहीं
एक लम्हा भी नहीं
Dr fauzia Naseem shad
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
"परमार्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
VEDANTA PATEL
कोरोना का आतंक
कोरोना का आतंक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दास्ताने-इश्क़
दास्ताने-इश्क़
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ज़िन्दगी का रंग उतरे
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिस्मानी इश्क
जिस्मानी इश्क
Sanjay ' शून्य'
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
महक कहां बचती है
महक कहां बचती है
Surinder blackpen
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
Anil chobisa
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
Anil Mishra Prahari
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं तो महज इंसान हूँ
मैं तो महज इंसान हूँ
VINOD CHAUHAN
✍️ हर बदलते साल की तरह...!
✍️ हर बदलते साल की तरह...!
'अशांत' शेखर
खोया है हरेक इंसान
खोया है हरेक इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Calling with smartphone !
Calling with smartphone !
Buddha Prakash
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
Dr Manju Saini
2294.पूर्णिका
2294.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*अमर रहे गणतंत्र हमारा, मॉं सरस्वती वर दो (देश भक्ति गीत/ सरस्वती वंदना)*
*अमर रहे गणतंत्र हमारा, मॉं सरस्वती वर दो (देश भक्ति गीत/ सरस्वती वंदना)*
Ravi Prakash
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
💐अज्ञात के प्रति-142💐
💐अज्ञात के प्रति-142💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...