Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय

तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
चटकारे ले तोहरा, प्रेमी-प्रीतम खाय
प्रेमी-प्रीतम खाय, सखी सुन-सुन मुस्काती
और कहूँ क्या तोय, लाज से मैं मर जाती
महावीर कविराय, राम बनाय हर जोड़ी
क्यों इतनी स्वादिष्ट, आमियाँ तूने तोड़ी

2 Likes · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
मुझे छेड़ो ना इस तरह
मुझे छेड़ो ना इस तरह
Basant Bhagawan Roy
उनकी तस्वीर
उनकी तस्वीर
Madhuyanka Raj
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
gurudeenverma198
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
A Picture Taken Long Ago!
A Picture Taken Long Ago!
R. H. SRIDEVI
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
बेवजह ख़्वाहिशों की इत्तिला मे गुज़र जाएगी,
बेवजह ख़्वाहिशों की इत्तिला मे गुज़र जाएगी,
शेखर सिंह
बूढ़ी माँ .....
बूढ़ी माँ .....
sushil sarna
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
Shashi kala vyas
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोलभाव
मोलभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गीत (प्रेम की पीड़ा अटल है)
गीत (प्रेम की पीड़ा अटल है)
डॉक्टर रागिनी
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
सर्जिकल स्ट्राइक
सर्जिकल स्ट्राइक
लक्ष्मी सिंह
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
जालोर के वीर वीरमदेव
जालोर के वीर वीरमदेव
Shankar N aanjna
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हिंदुस्तानी है हम सारे
हिंदुस्तानी है हम सारे
Manjhii Masti
माई कहाँ बा
माई कहाँ बा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
याद - दीपक नीलपदम्
याद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*घूम रहे जो रिश्वत लेकर, अपना काम कराने को (हिंदी गजल)*
*घूम रहे जो रिश्वत लेकर, अपना काम कराने को (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
Neeraj Agarwal
क्यो नकाब लगाती
क्यो नकाब लगाती
भरत कुमार सोलंकी
#पर्व_का_संदेश-
#पर्व_का_संदेश-
*Author प्रणय प्रभात*
"प्रेम के पानी बिन"
Dr. Kishan tandon kranti
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मूर्दन के गांव
मूर्दन के गांव
Shekhar Chandra Mitra
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...