Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2016 · 1 min read

तेवरी :– जीना सीखो रौब से !!

तेवरी :– जीना सीखो रौब से !!
— अनुज तिवारी “इन्दवार”

जीना सीखो रौब से ,
जाग उठो तुम ख्वाब से , सोना तो समसान है !

कुछ सर्तों की होड़ मे ,
गदहों की घुड़दौड़ मे , क्यों भटके इनसान है !

घाट छोड़ा सन्देह मे ,
इस माटी की देह मे , क्या तेरी पहचान है !

भाँप क्रूर स्वभाव को ,
गूढ तरुण सदभाव को , क्यों फिरता अंजान है !

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 783 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
'मेरे बिना'
'मेरे बिना'
नेहा आज़ाद
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
सुख मिलता है अपनेपन से, भरे हुए परिवार में (गीत )
सुख मिलता है अपनेपन से, भरे हुए परिवार में (गीत )
Ravi Prakash
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr.Pratibha Prakash
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
वक्त के साथ सब कुछ बदल जाता है...
वक्त के साथ सब कुछ बदल जाता है...
Ram Babu Mandal
" ख्वाबों का सफर "
Pushpraj Anant
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
Satish Srijan
मजदूरीन
मजदूरीन
Shekhar Chandra Mitra
नये अमीर हो तुम
नये अमीर हो तुम
Shivkumar Bilagrami
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
gurudeenverma198
^^अलविदा ^^
^^अलविदा ^^
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
■ एक आलेख : भर्राशाही के खिलाफ
■ एक आलेख : भर्राशाही के खिलाफ
*Author प्रणय प्रभात*
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
हमारी आंखों में
हमारी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
#पंचैती
#पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जनता देख रही है खड़ी खड़ी
जनता देख रही है खड़ी खड़ी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम नफरत करो
तुम नफरत करो
Harminder Kaur
2615.पूर्णिका
2615.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Maa pe likhne wale bhi hai
Maa pe likhne wale bhi hai
Ankita Patel
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*मौसम बदल गया*
*मौसम बदल गया*
Shashi kala vyas
चलो स्कूल
चलो स्कूल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐💐तुम अपना ख़्याल रखना💐💐
💐💐तुम अपना ख़्याल रखना💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
VINOD CHAUHAN
Loading...