Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2016 · 1 min read

तेवरी :– जीना सीखो रौब से !!

तेवरी :– जीना सीखो रौब से !!
— अनुज तिवारी “इन्दवार”

जीना सीखो रौब से ,
जाग उठो तुम ख्वाब से , सोना तो समसान है !

कुछ सर्तों की होड़ मे ,
गदहों की घुड़दौड़ मे , क्यों भटके इनसान है !

घाट छोड़ा सन्देह मे ,
इस माटी की देह मे , क्या तेरी पहचान है !

भाँप क्रूर स्वभाव को ,
गूढ तरुण सदभाव को , क्यों फिरता अंजान है !

Language: Hindi
Tag: तेवरी
1 Like · 4 Comments · 555 Views
You may also like:
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
आँखों की बरसात
Dr. Sunita Singh
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पथ जीवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आँखों में बगावत है ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
खयाल बन के।
Taj Mohammad
कुण्डलिया के छंद में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यशोदा का नंदलाल बांसूरी वाला
VINOD KUMAR CHAUHAN
दीपावली २०२२ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आग्रह
Rashmi Sanjay
✍️मिसाले✍️
'अशांत' शेखर
क़फ़स
मनोज कर्ण
मुझसे पहले क्या किसी ने
gurudeenverma198
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
कृष्ण पधारो आँगना
लक्ष्मी सिंह
तीरगी से निबाह करते रहे
Anis Shah
बेटियाँ
shabina. Naaz
जरूरी कहां कुल का दिया कुल को रोशन करें
कवि दीपक बवेजा
आईना
KAPOOR IQABAL
धर्मपथ_अंक_जनवरी_2021
Ravi Prakash
जड़त्व
Shyam Sundar Subramanian
गज़ल
Krishna Tripathi
इस दौर में
Dr fauzia Naseem shad
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
सावन सजनी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
Only for L
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...