Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

तेवरी :– क्या रख्खा शृंगार में !!

तेवरी :– क्या रख्खा श्रृंगार मे !!
अनुज तिवारी “इन्दवार”

जलन भरे जी से जला ,
तन-मन मे कचरा भरा , क्या रख्खा श्रृंगार मे !१!

बात करें जब नूर की ,
रंग गई कोहिनूर की , देने को उपहार मे !२!

चन्दन लगे लिलाट पे ,
पोथी पढते खाट पे , देखा उनको बार मे !३!

Language: Hindi
587 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भीम राव हैं , तारणहार मेरा।
भीम राव हैं , तारणहार मेरा।
Buddha Prakash
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
Harminder Kaur
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
शासन हो तो ऐसा
शासन हो तो ऐसा
जय लगन कुमार हैप्पी
" जब तुम्हें प्रेम हो जाएगा "
Aarti sirsat
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
"सेहत का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उसकी एक नजर
उसकी एक नजर
साहिल
■ ऐसा लग रहा है मानो पहली बार हो रहा है चुनाव।
■ ऐसा लग रहा है मानो पहली बार हो रहा है चुनाव।
*Author प्रणय प्रभात*
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
3208.*पूर्णिका*
3208.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
निगाहें
निगाहें
Shyam Sundar Subramanian
अंतर्मन
अंतर्मन
Dr. Mahesh Kumawat
सागर से अथाह और बेपनाह
सागर से अथाह और बेपनाह
VINOD CHAUHAN
मत रो लाल
मत रो लाल
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कीमती
कीमती
Naushaba Suriya
हर हर महादेव की गूंज है।
हर हर महादेव की गूंज है।
Neeraj Agarwal
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
दुष्यन्त 'बाबा'
कम्बखत वक्त
कम्बखत वक्त
Aman Sinha
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
*दो दिन का जीवन रहा, दो दिन का संयोग (कुंडलिया)*
*दो दिन का जीवन रहा, दो दिन का संयोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी चाहती है जाने क्या
ज़िंदगी चाहती है जाने क्या
Shweta Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Loading...