Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 6, 2016 · 1 min read

तेवरी :– क्या रख्खा शृंगार में !!

तेवरी :– क्या रख्खा श्रृंगार मे !!
अनुज तिवारी “इन्दवार”

जलन भरे जी से जला ,
तन-मन मे कचरा भरा , क्या रख्खा श्रृंगार मे !१!

बात करें जब नूर की ,
रंग गई कोहिनूर की , देने को उपहार मे !२!

चन्दन लगे लिलाट पे ,
पोथी पढते खाट पे , देखा उनको बार मे !३!

343 Views
You may also like:
पिता
Kanchan Khanna
पिता
Meenakshi Nagar
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
मेरे पापा
Anamika Singh
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
महँगाई
आकाश महेशपुरी
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Manisha Manjari
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
इश्क
Anamika Singh
पिता
Satpallm1978 Chauhan
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धन्य है पिता
Anil Kumar
Loading...