Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

तेवरी :– क्या रख्खा शृंगार में !!

तेवरी :– क्या रख्खा श्रृंगार मे !!
अनुज तिवारी “इन्दवार”

जलन भरे जी से जला ,
तन-मन मे कचरा भरा , क्या रख्खा श्रृंगार मे !१!

बात करें जब नूर की ,
रंग गई कोहिनूर की , देने को उपहार मे !२!

चन्दन लगे लिलाट पे ,
पोथी पढते खाट पे , देखा उनको बार मे !३!

Language: Hindi
Tag: तेवरी
379 Views
You may also like:
देशज से परहेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सात अंगना के हमरों बखरियां सखी
Er.Navaneet R Shandily
सच्ची मोहब्बतें कहां पैसों का खेल है!
अशांजल यादव
मुंशी प्रेमचंद, एक प्रेरणा स्त्रोत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
An Analysis of All Discovery & Development
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बाल कहानी- वादा
SHAMA PARVEEN
कुज्रा-कुजर्नी ( #लोकमैथिली_हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
आलेख : सजल क्या हैं
Sushila Joshi
हाय बरसात दिल दुखाती है
Dr fauzia Naseem shad
Advice
Shyam Sundar Subramanian
“ हमारा निराला स्पेक्ट्रम ”
Dr Meenu Poonia
बंदिशे तमाम मेरे हक़ में ...........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भोजपुरी ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हार कर भी जो न हारे
AMRESH KUMAR VERMA
हालात-ए-दिल
लवकुश यादव "अज़ल"
प्रेम
Kanchan Khanna
*तीली बोली फुस्स* (बाल कविता)
Ravi Prakash
आब अमेरिकामे पढ़ता दिहाड़ी मजदूरक दुलरा, 2.5 करोड़ के भेटल...
श्रीहर्ष आचार्य
"शिवाजी महाराज के अंग्रेजो के प्रति विचार"
Pravesh Shinde
उपहार
विजय कुमार 'विजय'
निश्छल छंद विधान
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
कुछ तो खास है उसमें।
Taj Mohammad
जंग
shabina. Naaz
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
■ कैसे हो भरोसा?
*Author प्रणय प्रभात*
🇭🇺 श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सुबह की किरणों ने, क्षितिज़ को रौशन किया कुछ ऐसे,...
Manisha Manjari
Loading...